सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

आरम्भ में मसीह के कथन के "अध्याय 35"

सिंहासन से सात गर्जनें निकलती हैं, वे ब्रह्मांड को हिला देती हैं, स्वर्ग और पृथ्वी को उलट-पुलट कर देती हैं, और आकाश में गूँजती हैं! यह आवाज़ इतनी भेदक है कि लोग न तो इससे बचकर भाग सकते हैं, और न ही इससे छिप सकते हैं। बिजली की चमक और गरज की गूँजें भेजी जाती हैं, जो एक क्षण में स्वर्ग और पृथ्वी को उलट देती हैं, और लोग मृत्यु की कगार पर हैं। फिर, आकाश से बरसता एक प्रचंड तूफ़ान बिजली की रफ़्तार से समस्त ब्रह्माण्ड को अपनी लपेट में ले लेता है! धरती के सुदूर कोनों तक, जैसे कि सब कोनों और दरारों में बहती कोई मूसलाधार वर्षा हो, कहीं एक दाग़ तक बाक़ी नहीं रहता है, और जब यह तूफ़ान हर किसी को सिर से पैर तक धो डालता है, उससे तब कुछ भी छिपा नहीं रहता है और न ही कोई व्यक्ति इससे बचाया जा सकता है। बिजली की सर्द चकाचौंध की तरह ही, उसके गर्जन की गड़गड़ाहट, मनुष्यों को भय से थरथरा देती है। तेज दुधारी तलवार विद्रोह के पुत्रों को मार गिराती है, और शत्रुओं को घोर विपत्ति का सामना करना पड़ता है, ऐसा कोई भी कोई आश्रय नहीं बचता है जहाँ वे भाग कर जा सकें, उनके सिर तूफ़ान की उग्रता में चकराते हैं, और वे तुरंत बेहोश होकर बहते पानी में गिर जाते हैं और बहा लिए जाते हैं। वे बस मर जाते हैं, उनके पास बचाए जाने का कोई रास्ता नहीं होता है। सात गर्जनें मुझसे निकलती हैं, और मिस्र के ज्येष्ठ पुत्रों को मार गिराने, दुष्टों को दंडित करने और मेरी कलीसियाओं को शुद्ध करने के मेरे इरादे को व्यक्त करती हैं, ताकि सभी कलीसियाएँ एक-दूसरे से निकटता से जुड़ी रहें, वे एक ही तरह सोचें और काम करें, और वे मेरे साथ एक ही दिल की हों, और ब्रह्मांड की सभी कलीसियाओं को एक ही सूत्र में बाँधा जा सके। यह मेरा उद्देश्य है।

जब गर्जन होती है, रोने-चीखने की आवाज़ें फूट निकलती हैं। कुछ अपनी नींद से जगा दिए जाते हैं, और, बहुत घबड़ा कर, वे अपने आत्माओं में गहरी खोज करते हैं और सिंहासन के सामने वापस भाग आते हैं। वे चालाकी, धोखेबाज़ी और अपराध करना रोक देते हैं, और ऐसे लोगों के जाग जाने में अभी देर नहीं हुई है। मैं सिंहासन से देखता हूँ। मैं लोगों के दिलों में गहराई से झाँकता हूँ। मैं उन लोगों को बचाता हूँ जो मुझे नेकी और उत्कंठा से चाहते हैं, और मैं उन पर दया करता हूँ। मैं अनंत काल तक उन लोगों को बचाऊँगा जो अपने दिलों में मुझे सब से अधिक प्यार करते हैं, जो मेरी इच्छा को समझते हैं, और जो मार्ग के अंत तक मेरा अनुसरण करते हैं। मेरा हाथ उन्हें सुरक्षित रखेगा ताकि वे इस परिस्थिति का सामना न करें और उन्हें कोई भी नुकसान न पहुँचे। जब कुछ लोग चमकती बिजली के इस दृश्य को देखते हैं, तो उनके दिल में एक ऐसा क्लेश होता है जिसे व्यक्त करना उनके लिए बहुत कठिन होता है, और उन्हें अफ़सोस बहुत देर से हुआ है। अगर वे इस तरह के व्यवहार में बने रहते हैं, तो उनके लिए बहुत देर हो चुकी है। ओह, सब कुछ, सब कुछ! यह सब कुछ किया जाएगा। यह उद्धार के मेरे साधनों में से एक है। मैं उन लोगों को बचाता हूँ जो मुझसे प्यार करते हैं और मैं दुष्टों को मार गिराता हूँ। तो मेरा राज्य पृथ्वी पर सधा हुआ और सुस्थिर रहेगा और पूरे विश्व में हर देश के सभी लोगों को पता चलेगा कि मैं प्रताप हूँ, मैं भड़कती आग हूँ, मैं वो परमेश्वर हूँ जो हर व्यक्ति के अंतरतम हृदय की तलाशी लेता है। इस समय से, महान श्वेत सिंहासन का न्याय लोगों के सामने सार्वजनिक रूप से प्रकट किया जाता है और सभी लोगों के सामने यह घोषणा की जाती है कि न्याय शुरू हो गया है! यह बात संदेह से परे है कि जो लोग अपने दिल की बात नहीं कहते हैं, वे जो अनिश्चित महसूस करते हैं और निश्चित होने की हिम्मत नहीं रखते हैं, जो अपने समय को आलस में बर्बाद करते हैं, जो मेरी इच्छाओं को समझते तो हैं लेकिन उन्हें अभ्यास में लाने के इच्छुक नहीं हैं, उनका न्याय किया जाना चाहिए। तुम लोगों को अपने इरादों और उद्देश्यों की सावधानी से जाँच करनी चाहिए, और अपना उचित स्थान लेने चाहिए, जो कुछ भी मैं कहता हूँ, उसका पूरी तरह से अभ्यास करना चाहिए, अपने जीवन के अनुभवों को महत्व देना चाहिए, बाहर से ही जोश के साथ कार्य मत करो, बल्कि अपने जीवन का विकास करो, उसे परिपक्व, स्थिर और अनुभवी बनाओ, और केवल तब ही तुम मेरे दिल के अनुसार होगे।

शैतान के अनुचरों को और उन दुष्ट आत्माओं को जो मेरे निर्माण को बाधित और नष्ट करते हैं, चीज़ों को अपने हित में शोषित करने का कोई भी मौका न दो। उन्हें गंभीर रूप से सीमित और नियंत्रित किया जाना चाहिए और उनके साथ केवल तेज़ तलवारों से निपटा जा सकता है। उनमें जो सबसे बुरे हैं, उन लोगों को तत्काल जड़ से उखाड़ देना चाहिए ताकि वे भविष्य में कोई खतरा पैदा न करें। और कलीसिया को पूर्ण किया जाएगा, वहाँ कोई निर्बलता न होगी, और वह स्वास्थ्य, जीवनशक्ति और ऊर्जा से भरपूर होगी। चमकती बिजली के बाद, गड़गड़ाहटें गूँज उठती हैं। तुम लोगों को उपेक्षा नहीं करनी चाहिए, और हार नहीं माननी चाहिए, बल्कि जो छूट गया है उसे पकड़ने का अपना पूरा प्रयास करना चाहिए, और तुम सब निश्चित रूप से देख सकोगे कि मेरा हाथ क्या करता है, मैं क्या हासिल करता हूँ, किसे हटा देता हूँ, किसे सिद्ध करता हूँ, किसे जड़ से उखाड़ फेंकता हूँ, और किसे मार गिराता हूँ। यह सब तुम लोगों की आँखों के सामने घटित होगा ताकि तुम सब स्पष्ट रूप से मेरी सर्वशक्तिमत्ता को देख सको।

सिंहासन से लेकर पूरे ब्रह्मांड के सिरों तक, सात गर्जनें गूँज उठती हैं। लोगों का एक बड़ा समूह बचाया जाएगा और मेरे सिंहासन के सामने समर्पित होगा। जीवन के इस प्रकाश के बाद, लोग जीवित रहने के साधनों को तलाशते हैं और वे स्वयं को मेरे पास आने से सम्मान में घुटने टेकने से रोक नहीं पाते हैं, उनके मुंह सर्वशक्तिमान सच्चे परमेश्वर के नाम को पुकारते हैं, और अपनी प्रार्थनाओं को व्यक्त करते हैं। लेकिन जो लोग मेरा विरोध करते हैं, जो अपने दिल को कठोर कर लेते हैं, उनके कानों में गर्जन गूँजती है और बिना किसी संदेह के, उन्हें मरना ही होगा। उनके लिए केवल यही अंतिम परिणाम है। मेरे प्यारे पुत्र जो विजयी हैं, सिय्योन में रहेंगे और सभी लोग देखेंगे कि वे क्या प्राप्त करेंगे, और तुम सब के सामने विशाल महिमा प्रकट होगी। यह सचमुच एक विशेष रूप से महान आशीर्वाद है, जिसकी मधुरता को शब्दों में व्यक्त करना मुश्किल है।

जब सात गर्जनों की गड़गड़ाहट गूँजती है, तो जो मुझसे प्यार करते हैं, जो मुझे सच्चे दिल से चाहते हैं, उन लोगों का उद्धार होता है। जो मेरे हैं और जिन्हें मैंने पूर्वनिर्धारित किया और चुना है, वे सभी मेरे नाम की शरण में आ पाते हैं। वे मेरी आवाज़ सुन सकते हैं, जो परमेश्वर की पुकार है। पृथ्वी के सिरों पर रहने वालों को देखने दो कि मैं धर्मी हूँ, मैं वफ़ादार हूँ, मैं प्रेम हूँ, मैं करुणा हूँ, मैं प्रताप हूँ, मैं प्रचंड अग्नि हूँ, और अंततः मैं निर्मम न्याय हूँ।

दुनिया में सभी को देखने दो कि मैं खुद ही वास्तविक और पूर्ण परमेश्वर हूँ। सभी मनुष्य ईमानदारी से आश्वस्त हैं और फिर से कोई भी मेरा विरोध, मेरी आलोचना करने की, या मेरी निंदा करने की हिम्मत नहीं करता है। अन्यथा, उन्हें तुरंत शाप मिलेगा और उन पर विपत्ति आएगी। वे केवल रोएंगे और अपने दांत पीसेंगे और वे खुद अपना विनाश ले आएँगे।

सभी लोगों को जान लेने दो, और ब्रह्मांड के सिरों तक ज्ञात करा दो, ताकि प्रत्येक व्यक्ति को पता चल सके। सर्वशक्तिमान परमेश्वर एकमात्र सच्चा परमेश्वर है, सभी लोग एक के बाद एक घुटने टेक कर उसकी आराधना करेंगे और यहाँ तक कि वे बच्चे भी जिन्होंने अभी बात करना सीखा ही है, वे भी “सर्वशक्तिमान परमेश्वर” बोल उठेंगे! सत्ता को सम्भालने वाले अधिकारी अपनी ही आँखों के सामने सच्चे परमेश्वर को प्रकट होते देखेंगे और वे उपासना में साष्टांग करेंगे, दया और क्षमा की भीख माँगेंगे, लेकिन अब बहुत देर हो चुकी है क्योंकि उनकी मृत्यु का समय हो चुका है; उनके लिए यह किया ही जाना चाहिए: उन्हें असीम रसातल की सज़ा देनी ही होगी। मैं पूरे युग को समाप्त कर दूँगा, और अपने राज्य को और भी मजबूत करूँगा। सभी राष्ट्र और समस्त लोग अनंत काल के लिए मेरे सामने समर्पण कर देंगे!

सम्बंधित मीडिया

  • अफवाह पर भरोसा करना परमेश्वर के अंतिम दिनों के उद्धार को खोना है

    कलीसिया के भीतर कई भाई और बहनें जब भी किसी को अंतिम दिनों के सर्वशक्तिमान परमेश्वर के सुसमाचार के बारे में बात करते हुए सुनते हैं, तो वे इसे सुनने में…

  • संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के कथन के "अध्याय 12"

    जब पूर्व से बिजली चमकती है—जो कि निश्चित रूप से वही क्षण भी होता है जब मैं बोलना आरम्भ करता हूँ—जिस क्षण बिजली प्रकट होती है, तो संपूर्ण नभमण्डल जगमगा…

  • चमकती पूर्वी बिजली की सफलता का उद्गम

    हर बार जब चमकती पूर्वी बिजली का वर्णन होता है, प्रभु में रहने वाले कई भाई बहनें हैरानी महसूस करते हैं: ऐसा क्यों है कि जैसे-जैसे धार्मिक समुदाय पूरी त…

  • चीन में अंतिम दिनों के मसीह के प्रकटन और उनके कार्य की पृष्ठिभूमि के बारे में एक संक्षिप्त परिचय

    चीन, महान लाल अजगर के रहने का स्थान है और सम्पूर्ण इतिहास में, यही वह स्थान है जहां परमेश्वर का सबसे अधिक विरोध हुआ और निंदा की गई है। चीन दानवों के एक किले के समान है और शैतान के द्वारा एक अगम्य एवं अभेद्य जेल का नियंत्रण किया जाता है। इसके अलावा, महान लाल अजगर के प्रशासन के सभी स्तरों पर पहरेदारी है और प्रत्येक घर की मोर्चाबंधी की गयी है। परिणामस्वरूप, परमेश्वर के सुसमाचार को फैलाना और उनके कार्य करना इससे अधिक कठिन कहीं भी नहीं है । जब सन् 1949 में चीनी साम्यवादी पार्टी सत्ता में आई, तो चीन की मुख्यभूमि में धार्मिक विश्वास पर प्रतिबंध लगाकर उसे पूरी तरह से दबा दिया गया। लाखों मसीहियों ने सार्वजनिक अपमान,अत्याचार और क़ैद का सामना किया। सभी कलीसियाओं को पूरी तरह से बंद कर उनका सफाया कर दिया गया। यहां तक कि घर की सभाओं पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया। यदि कोई किसी सभा में भाग लेता हुआ पकड़ा जाता तो उसे जेल में डाल दिया जाता और यहां तक कि उसकी गर्दन उड़ा दी जाती । उस समय धार्मिक गतिविधियां बिना सुराग़ के लगभग गायब हो गईं । केवल कुछ ही संख्या में मसीहियों ने निरंतर परमेश्वर पर विश्वास बनाए रखा, परन्तु वे केवल ख़ामोशी से कलीसिया को पुनर्जीवित करने के लिए याचना करते हुए परमेश्वर से प्रार्थना और अपने हृदयों में उसकी आराधना के गीत गा सकते थे। अंततः 1981 में, कलीसिया वास्तव में पुनर्जीवित हुई और चीन में व्यापक पैमाने पर पवित्र आत्मा ने अपना कार्य करना प्रारम्भ कर दिया। कलीसियाएं अब बसंत की बारिश के बाद बांस की शाखाओं के समान फूट कर उभर रही थीं और अधिक से अधिक संख्या में लोगों ने परमेश्वर पर विश्वास करना प्रारम्भ कर दिया । सन् 1983 में, जब कलीसिया का पुनरुद्धार अपने चरमोत्कर्ष पर पहुंच गया, तो चीनी कम्यूनिस्ट पार्टी ने क्रूर दमन का एक नया दौर प्रारम्भ किया। लाखों लोगों को गिरफ्तार करके हिरासत में ले लिया गया और उन्हें श्रम के माध्यम से शिक्षित किया गया। महान लाल अजगर के प्रशासन ने परमेश्वर के विश्वासियों को केवल सरकार द्वारा गठित तीन-स्व देशभक्त चर्च में शामिल होने की अनुमति प्रदान की। सीसीपी सरकार ने तीन-स्व देशभक्त चर्च का गठन किया, भूमिगत चर्चों को पूरी तरह से हटाने और दृढ़ता से प्रभु में उन विश्वासियों को सरकार के नियंत्रण में लाने के लिए प्रयास किया। ऐसा माना जाता है सरकार कि विश्वास पर प्रतिबंध लगाने और चीन को बिना परमेश्वर का देश बनाने का लक्ष्य प्राप्त करने का यही एक ही रास्ता था। परन्तु पवित्र आत्मा ने घर की कलीसियाओं तथा परमेश्वर पर वास्तव में विश्वास करने वाले लोगों में अपना अत्याधिक कार्य जारी रखा, जिसे रोकने के लिए सीसीपी सरकार के पास कोई रास्ता नहीं बचा था। उस समय, घर की कलीसियाओं में पवित्र आत्मा के कार्य हो रहे थे, अंतिम दिनों के मसीह ने चुपचाप अपना कार्य प्रकट किया, सत्य को व्यक्त करना शुरू किया और परमेश्वर के घर से प्रारम्भ होने वाले न्याय के कार्य करने लगा।