सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

परमेश्वर हमें परीक्षण और शुद्धिकरण का अनुभव क्यों करने देते हैं? परमेश्वर हमें परीक्षण और शुद्धिकरण का अनुभव क्यों करने देते हैं?

कई ईसाई उलझन में हैं: परमेश्वर प्रेम हैं और वह सर्वशक्तिमान हैं, तो वह हमें कष्ट सहने क्यों देते हैं? इसका उत्तर जानने के लिए इस निबंध को पढ़ें!

ईसाई प्रेम: विच्छेद से कैसे उबरें

गर्मियों की शुरुआत में एक दिन सुबह, एक हलकी खुशबू हवा में बिखरी हुई थी और धूप हर कोने में फैल रही थी। फूलों के चित्रों वाली एक शिफॉन पोशाक पहने हुए चीनयी मेट्रो स्टेशन पर खुश महसूस कर रही थी, और अगली ट्रेन के आने की प्रतीक्षा कर रही थी। अपने सिर को घुमाते हुए, चीनयी ने अनायास एक वीडियो स्क्रीन पर एक लड़की को एक लड़के के साथ सम्बन्ध-विच्छेद करते हुए देखा क्योंकि उस लड़के ने उसके साथ बेवफ़ाई की थी, फिर लड़की अपने चेहरे पर आँसू लिए दूसरी ओर घूमकर चली गई। चीनयी ने स्क्रीन को टकटकी लगाये देखा। तभी, उसने अचानक सोचा कि वह पहले कैसी थी, जब उसने एक सुंदर प्रेम की लालसा की थी जहां वह और उसका प्रेमी एक साथ जीवन गुजारेंगे, लेकिन अंत में, उसे केवल ज़ख्म और घाव मिले थे ...

प्रभु यीशु की वापसी से संबंधित बाइबल की 5 भविष्यवाणियाँ पूरी की जा चुकी हैं

यह लेख, बाइबल में लिखी प्रभु यीशु की वापसी से संबंधित भविष्यवाणियों और उनकी पूर्ति का एक निष्पक्ष विवरण देता है। इस लेख का उद्देश्य, बाइबल की भविष्यवाणी की पूर्ति के आधार पर पाठकों को इस तथ्य की पुष्टि करने में समर्थ बनाना है कि प्रभु वापस आ गये हैं, फिर उन्हें प्रभु की वापसी की तलाश और जांच करने, उनकी वापसी का स्वागत करने में एक बुद्धिमान कुंवारी की तरह होने, और अनन्त जीवन प्राप्त करने देना है।

ईसाई जीवन: कैसे अपने बच्चे को शिक्षित करें और सुखी माता-पिता बनें

विवरण: "आप मुझसे प्यार नहीं करती हैं, आप मेरी माँ नहीं हैं!" "तुम्हारी माँ तुमसे बहुत प्यार करती है। तुम क्यों नहीं समझते?" अपने बच्चों को पढ़ाने के दौरान, माता-पिता अक्सर उनके साथ इस तरह का संवाद करते हैं। इस आदान-प्रदान से, हम देख सकते हैं कि बच्चे का अपने माता-पिता के साथ रिश्ता बहुत ही अधिक बेढंगा है, और उनके बीच का सामंजस्य सही नहीं है। तो फिर, माता-पिता को अपने बच्चों को वास्तव में किस तरह शिक्षित करना चाहिए और वे उनके साथ सामंजस्य बिठा कर सुखी अभिभावक कैसे बन सकते हैं?