सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

55. बाइबल की रचना कैसे हुई? बाइबल वास्तव में किस प्रकार की किताब है?

2017-11-09 34

परमेश्वर के वचन से जवाब:

पुराने विधान में दर्ज की गई चीजें इस्राएल में यहोवा के कार्य हैं, और जो कुछ भी नए विधान में दर्ज है वह अनुग्रह के युग के दौरान यीशु के कार्य हैं; वे दो भिन्न-भिन्न युगों में परमेश्वर के द्वारा किए गए कार्य को अभिलिखित करते हैं। पुराना विधान व्यवस्था के युग के दौरान परमेश्वर के कार्य को अभिलिखित करता है, और इस प्रकार पुराना विधान एक ऐतिहासिक पुस्तक है, जबकि नया विधान अनुग्रह के युग के कार्य का उत्पाद है। जब नया कार्य आरम्भ हुआ, तो ये पुस्तकें पुरानी पड़ गईं—और इस प्रकार, नया विधान भी एक ऐतिहासिक पुस्तक है। वास्तव में, नया विधान पुराने विधान के समान सुव्यवस्थित नहीं है, न ही इसमें इतनी बातें दर्ज हैं।

"वचन देह में प्रकट होता है" से "बाइबल के विषय में (1)" से

प्राचीन समयों में, अनुग्रह के युग के पहले लोग बाइबल पढ़ते थे, किन्तु उस समय केवल पुराना विधान था; कोई नया विधान नहीं था। चूँकि बाइबल का पुराना विधान ही था, इसलिए लोगों ने पवित्र शास्त्रों को पढ़ना आरम्भ कर दिया। जब उसके लिए यहोवा का मार्गदर्शन समाप्त हो गया था, तब मूसा ने उत्पत्ति, निर्गमन, और व्यवस्थाविवरण… को लिखा। उसने यहोवा के उस समय के कार्य का स्मरण किया, और उसे लिखा। बाइबल इतिहास की एक पुस्तक है। वास्तव में, इस में भविष्यद्वक्ताओं के कुछ पूर्वकथन शामिल हैं, और वास्तव में, ये पूर्वकथन किसी भी मायने में इतिहास नहीं हैं। बाइबल में अनेक भाग शामिल हैं—इस में केवल भविष्यवाणी ही नहीं है, या केवल यहोवा का कार्य ही नहीं है, और न ही इस में मात्र पौलुस के धर्मपत्र ही हैं। तुम्हें अवश्य ज्ञात होना चाहिए कि बाइबल में कितने भाग शामिल हैं; पुराने विधान में उत्पत्ति, निर्गमन…, शामिल हैं, और इसमें वे भविष्यवाणी की पुस्तकें भी हैं जिन्हें उन्होंने लिखा था। अतं में, पुराना विधान मलाकी की पुस्तक के साथ समाप्त होता है। इसमें व्यवस्था के युग के कार्य को दर्ज किया गया है, जिसकी अगुवाई यहोवा के द्वारा की गई थी; उत्पत्ति से लेकर मलाकी की पुस्तक तक, यह व्यवस्था के युग के सभी कार्य का विस्तृत लिखित दस्तावेज़ है। कहने का अर्थ है, कि पुराने विधान में वह सब कुछ दर्ज है जिसे उन लोगों के द्वारा अनुभव किया गया था जिनका व्यवस्था के युग में यहोवा के द्वारा मार्गदर्शन किया गया था। पुराने नियम के व्यवस्था के युग के दौरान, यहोवा के द्वारा बड़ी संख्या में खड़े किए गए भविष्यद्वक्ताओं ने उसके लिए भविष्यवाणी की, उन्होंने विभिन्न कबीलों एवं राष्ट्रों को निर्देश दिए, और उस कार्य की भविष्यवाणी की जो यहोवा करेगा। ये लोग जिन्हें खड़ा किया गया था, उन सभी को यहोवा के द्वारा भविष्यवाणी का पवित्रात्मा दिया गया थाः वे यहोवा से परिकल्पनाओं को देखने, और उसकी आवाज़ को सुनने में समर्थ थे, और इस प्रकार वे उसके द्वारा प्रेरित थे और उन्होंने भविष्यवाणियों को लिखा। उन्होंने जो कार्य किया वह यहोवा की आवाज़ की अभिव्यक्ति था, यह उस भविष्यवाणी का कार्य था जिसे उन्होंने यहोवा की ओर से किया था, और उस समय यहोवा का कार्य केवल पवित्रात्मा का उपयोग करके लोगों को मार्गदर्शन करना था; वह देहधारी नहीं हुआ, और लोगों ने उसके चेहरे में से कुछ भी नहीं देखा। इस प्रकार, उसने अपना कार्य करने के लिए बहुत से भविष्यद्वक्ताओं को खड़ा किया, और उन्हें आकाशवाणियाँ दीं जो उन्होंने इस्राएल के प्रत्येक कबीले और कुटुम्ब को सौंप दी। उनका कार्य भविष्यवाणी कहना था, और उन में से कुछ ने अन्य लोगों को दिखाने के लिए यहोवा के निर्देशों को लिख लिया। यहोवा ने इन लोगों को भविष्यवाणी करने, भविष्य के कार्य या उस कार्य के बारे में पूर्वकथन कहने के लिए खड़ा किया था जो उस युग के दौरान अभी किया जाना था, ताकि लोग यहोवा की चमत्कारिकता एवं बुद्धि को देख सकें। भविष्यवाणी की ये पुस्तकें बाइबल की अन्य पुस्तकों से बिलकुल अलग थीं; वे उन लोगों के द्वारा बोले या लिखे गए वचन थे जिन्हें भविष्यवाणी का पवित्रात्मा दिया गया था—उनके द्वारा जिन्होंने यहोवा की परिकल्पना या आवाज़ को प्राप्त किया था। भविष्यवाणी की पुस्तकों के अलावा, पुराने विधान में हर चीज़ वह अभिलेख है जिसे लोगों के द्वारा तब बनाया गया था जब यहोवा ने अपना काम समाप्त कर लिया था। ये पुस्तकें यहोवा के द्वारा खड़े किए गए भविष्यद्वक्ताओं के द्वारा बोले गए पूर्वकथनों का स्थान नहीं ले सकती हैं, बिलकुल वैसे ही जैसे उत्पत्ति और निर्गमन की तुलना यशायाह की पुस्तक और दानिय्येल की पुस्तक से नहीं की जा सकती है। कार्य के पूरा होने से पहले ही भविष्यवाणियाँ बोली गई थीं; अन्य पुस्तकें, इस बीच, इसके पूरा हो जाने के बाद लिखी गई थीं, जो कि वह था जिसे करने में लोग समर्थ थे। उस समय के भविष्यद्वक्ता यहोवा के द्वारा प्रेरित थे और उन्होंने कुछ भविष्यवाणियाँ की, और उन्होंने कई वचन बोले, और अनुग्रह के युग की चीजों की, और साथ ही अंत के दिनों में संसार के विनाश—वह कार्य जिसे करने की यहोवा की योजना थी—के बारे में भविष्यवाणी की। बाकी बची सभी पुस्तकों में यहोवा के द्वारा इस्राएल में किए गए कार्य को दर्ज किया गया है। इस प्रकार, जब तुम बाइबल को पढ़ते हो, तो तुम मुख्य रूप से यहोवा के द्वारा इस्राएल में किये कार्यों के बारे में पढ़ रहे होते हो; बाइबल के पुराने विधान में मुख्यतः इस्राएल का मार्गदर्शन करने का यहोवा का कार्य, मिस्र से बाहर इस्राएलियों का मार्गदर्शन करने के लिए उसका मूसा का उपयोग, किसने उन्हें फिरौन के बन्धनों से छुटकारा दिलाया, और कौन उन्हें बाहर जंगल में ले गया, जिसके बाद उन्होंने कनान में प्रवेश किया और इसके बाद की हर चीज़ कनान में उनका जीवन था, दर्ज किया गया है। इसके अलावा बाकी सब पूरे इस्राएल में यहोवा के कार्य का अभिलेख है। पुराने विधान में दर्ज सब कुछ इस्राएल में यहोवा का कार्य है, यह वह कार्य है जिसे यहोवा ने उस भूमि में किया जिस में उसने आदम और हव्वा को बनाया था। जब से परमेश्वर ने नूह के बाद आधिकारिक रूप से पृथ्वी पर लोगों की अगुवाई करनी आरम्भ की, तब से पुराने विधान में दर्ज सब कुछ इस्राएल का कार्य है। और क्यों इस्राएल के बाहर का कोई भी कार्य दर्ज नहीं किया गया है? क्योंकि इस्राएल की भूमि मानवजाति का पालना है। आदि में, इस्राएल के अलावा कोई अन्य देश नहीं थे, और यहोवा ने अन्य स्थानों में कार्य नहीं किया। इस तरह, बाइबल में जो कुछ भी दर्ज है वह केवल उस समय इस्राएल में किया गया कार्य है। भविष्यद्वक्ताओं के द्वारा, यशायाह, दानिय्येल, यिर्मयाह, और यहेज़केल के द्वारा बोले गए वचन… उनके वचन पृथ्वी पर उसके अन्य कार्य के बारे में पूर्वकथन करते हैं, वे यहोवा परमेश्वर स्वयं के कार्य का पूर्वकथन करते हैं। यह सब कुछ परमेश्वर से आया, यह पवित्र आत्मा का कार्य था, और भविष्यद्वक्ताओं की इन पुस्तकों के अलावा, बाकी हर चीज़ उस समय लोगों के यहोवा के कार्य के अनुभव का अभिलेख है।

"वचन देह में प्रकट होता है" से "बाइबल के विषय में (1)" से

बाइबल किस प्रकार की पुस्तक है? पुराना विधान व्यवस्था के युग के दौरान परमेश्वर का कार्य है। बाइबल के पुराने विधान में व्यवस्था के युग के दौरान यहोवा के सभी कार्य और उसके सृजन के कार्य दर्ज हैं। इसमें यहोवा के द्वारा किए गए समस्त कार्य दर्ज हैं, और यहोवा के कार्य के वृत्तान्त अंततः मलाकी की पुस्तक के साथ समाप्त होते हैं। पुराने विधान में परमेश्वर के द्वारा किए गए कार्य के दो टुकड़े दर्ज हैं: एक सृष्टि की रचना का कार्य है, और एक व्यवस्था की आज्ञा देना है। दोनों ही यहोवा के द्वारा किए गए कार्य थे। व्यवस्था का युग यहोवा के नाम के अधीन परमेश्वर के कार्य का प्रतिनिधित्व करता है; यह मुख्यतः यहोवा के नाम के अधीन किए गए कार्य की समग्रता है। इस प्रकार, पुराने नियम में यहोवा के कार्य दर्ज हैं, और नए नियम में यीशु के कार्य, वह कार्य जिसे मुख्यतः यीशु के नाम के अधीन किया गया था, दर्ज है। यीशु के नाम का अधिकांश महत्व और जो कार्य उसने किया वे नए विधान में दर्ज हैं। पुराने विधान के समय में, यहोवा ने इस्राएल में मन्दिर और वेदी को बनायी, उसने पृथ्वी पर इस्राएलियों के जीवन का मार्गदर्शन किया, इस बात को साबित करते हुए कि वे उसके चुने हुए लोग हैं, लोगों का पहला समूह हैं जिन्हें उसने पृथ्वी पर चुना है और जो उसकी पसंद के अनुसार हैं, वह प्रथम समूह हैं जिसकी उसने व्यक्तिगत रूप से अगुवाई की थी; कहने का अर्थ है, कि इस्राएल के बारह कबीले यहोवा के चुने हुए प्रथम लोग थे, और इसलिए परमेश्वर ने, व्यवस्था के युग के यहोवा के कार्य का समापन हो जाने तक, हमेशा उन में कार्य किया। कार्य का द्वितीय चरण नए विधान के अनुग्रह के युग का कार्य था, और उसे यहूदा के कबीले के बीच किया गया था, जो इस्राएल के बारह कबीलों में से एक था। उस कार्य का दायरा इसलिए छोटा था क्योंकि यीशु परमेश्वर देहधारी हुआ था। यीशु ने केवल यहूदिया की पूरी धरती पर काम किया, और सिर्फ साढ़े-तीन-वर्षों का काम किया; इस प्रकार, जो कुछ नए विधान में दर्ज है वह पुराने विधान में दर्ज कार्य की मात्रा से बढ़कर होने में समर्थ नहीं है। अनुग्रह के युग के यीशु का कार्य मुख्यतः सुसमाचार की चार पुस्तकों में दर्ज है। वह मार्ग जिस पर अनुग्रह के युग के लोग चले थे वह उनके जीवन स्वभाव में अति सतही परिवर्तन का मार्ग था, उस में से अधिकांश धर्मपत्रों में दर्ज हैं।

"वचन देह में प्रकट होता है" से "बाइबल के विषय में (1)" से

उस समय, यीशु ने बहुत सारा काम किया था जो उसके चेलों की समझ से परे था, और उसने कोई व्याख्या प्रदान नहीं की थी। उसके जाने के बाद, चेलों ने हर जगह प्रचार करना और काम करना प्रारम्भ किया, और कार्य की उस अवस्था के लिए, उन्होंने धर्मपत्रों और सुसमाचार को लिखना प्रारम्भ किया। यीशु को क्रूस पर चढ़ाए जाने के बीस से लेकर तीस साल के बाद नए नियम के सुसमाचार की पुस्तकों को दर्ज किया या लिखा गया था। उस से पहले, इस्राएल के लोग केवल पुराना नियम ही पढ़ते थे। दूसरे शब्दों में, अनुग्रह के युग में लोग पुराना नियम पढ़ते थे। नया नियम केवल अनुग्रह के युग के दौरान ही प्रकट हुआ था। जब यीशु काम करता था तब नया नियम मौजूद नहीं था; उसके पुनरूत्थान और स्वर्गारोहण के बाद ही लोगों ने उसके कार्य को दर्ज किया या लिखा था। केवल तब ही सुसमाचार की चार पुस्तकें, और उसके अतिरिक्त पौलुस और पतरस की धर्मपत्र, साथ ही साथ प्रकाशित वाक्य की पुस्तक आई थी। प्रभु यीशु के स्वर्ग जाने के केवल तीन सौ साल बाद, जब उसके बाद की पीढ़ियों ने उनके लेखों का मिलान किया था, तब नया नियम अस्तित्व में आया। जब यह कार्य पूरा हो गया केवल तभी नया नियम अस्तित्व में आया था; यह पहले मौजूद नहीं था। परमेश्वर ने वह सब कार्य किया था, प्रेरित पौलुस ने वह सब कार्य किया था, उसके बाद पौलुस और पतरस के धर्मपत्रों को एक साथ मिलाया गया था, और पतमुस के टापू में यूहन्ना के द्वारा दर्ज किए गए सबसे बड़े दर्शन को अंत में रखा गया था, क्योंकि वह अंतिम दिनों के कार्य के विषय में भविष्यवाणी करता है। ये सब बाद में आनेवाली पीढ़ियों के समायोजन थे, और वे आज के कथनों से अलग हैं। …जो कुछ उन्होंने दर्ज किया है, ऐसा कहा जा सकता है, वह उनकी शिक्षा और उनकी मानवीय योग्यता के स्तर के अनुसार था। जो कुछ उन्होंने दर्ज किया था वे मनुष्यों के अनुभव थे, और प्रत्येक के पास दर्ज करने या लिखने और जानने के लिए अपने स्वयं के माध्यम थे, और प्रत्येक का लिखित दस्तावेज़ अलग था। इस प्रकार, यदि तुम ईश्वर के रूप में बाइबल की आराधना करते हो तो तुम बहुत ही ज़्यादा नासमझ और मूर्ख हो।

"वचन देह में प्रकट होता है" से "बाइबल के विषय में (3)" से

सम्बंधित मीडिया

शायद आपको पसंद आये