सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

प्रश्न 9: हम अंत के दिनों के परमेश्‍वर के कार्य को स्वीकार करते हैं, लेकिन हम किस प्रकार परमेश्‍वर के न्याय और ताड़ना को अनुभव करें जिससे कि हम सत्य और जीवन को प्राप्त कर सकें, हमारी पापी प्रकृति से छुटकारा पा सकें, और स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के लिए उद्धार प्राप्त कर सकें?

2019-02-26 10

उत्तर: सत्‍य और जीवन प्राप्त करने के लिए परमेश्‍वर के न्याय और ताड़ना का अनुभव कैसे करें, किस तरह अपनी पापी प्रकृति से छुटकारा पाएं और किस तरह उद्धार प्राप्त कर स्वर्ग के राज्य में प्रवेश पायें... यह जो सवाल आप लोगों उठाया है, बहुत ही महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह हमारे अंत और मंज़िल के प्रमुख मुद्दों से संबंधित है। सत्‍य के इस पहलू की खोज करने के लिए, हमें सबसे पहले सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचन के कुछ अंश पढ़ना चाहिए:

"परमेश्वर पर सच्चे विश्वास का अर्थ इस विश्वास के आधार पर परमेश्वर के वचनों और कामों का अनुभव करना है कि परमेश्वर सब वस्तुओं पर संप्रभुता रखता है। इस तरह से तुम अपने भ्रष्ट स्वभाव से मुक्त हो जाओगे, परमेश्वर की इच्छा को पूरा करोगे और परमेश्वर को जान जाओगे। केवल इस प्रकार की यात्रा के माध्यम से ही तुम्हें परमेश्वर पर विश्वास करने वाला कहा जा सकता है" ("वचन देह में प्रकट होता है" के लिए प्रस्तावना से)।

"बोलने की वर्तमान प्रक्रिया, जीतने की प्रक्रिया है। लोगों को किस प्रकार उपयुक्त सहयोग देना चाहिए? इन वचनों को प्रभावशाली रीति से खाने और पीने से और उन्हें समझने के द्वारा। लोगों को उन्हीं के द्वारा जीता नहीं जा सकता। तुम लोगों को, इन वचनों को खाने और पीने के द्वारा, अपनी भ्रष्टता और अशुद्धता, अपने विद्रोहीपन और अधार्मिकता को जानना है, और परमेश्वर के समक्ष दण्डवत हो जाना है। यदि तुम परमेश्वर की इच्छा को समझ सकते हो और इसे अभ्यास में ला सकते हो, और आगे, दर्शन प्राप्त कर सकते हो, और यदि तुम इन वचनों का पूरी तरह से पालन कर सकते और अपनी ओर से कोई चुनाव नहीं करते हो, तब तुम्हें जीत लिया जाएगा। और ये वह शब्द होंगे, जिन्होंने तुम्हें जीता है" ("वचन देह में प्रकट होता है" में "विजयी कार्यों का आंतरिक सत्य (1)" से)।

"परमेश्वर के वचन को खाने और पीने पर अवश्य ध्यान केन्द्रित करना चाहिए, सत्य की खोज पर, परमेश्वर के वचनों में उसके इरादे की खोज पर अवश्य ध्यान केन्द्रित करना चाहिए, और हर चीज़ में परमेश्वर की इच्छा को समझने का प्रयास करना चाहिए। यह अभ्यास की सबसे बुनियादी और अति महत्वपूर्ण पद्धति है। ...परमेश्वर के वचनों के प्रति हार्दिक समर्पण का अर्थ है सत्य की खोज करना, परमेश्वर के वचनों में उसके इरादों की खोज करना, परमेश्वर की इच्छा को समझने पर ध्यान केन्द्रित करना, और परमेश्वर के वचनों से सत्य को समझना तथा और अधिक प्राप्त करना। ...उसके स्वभाव और उसकी सुंदरता की समझ को प्राप्त करना। उसने परमेश्वर के वचनों से मनुष्य की विभिन्न भ्रष्ट अवस्थाओं को समझने, और मनुष्य की भ्रष्ट प्रकृति को तथा मनुष्य की कमियों को समझने का भी प्रयास किया, और परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए, उसकी इंसान से अपेक्षित माँगों के सभी पहलुओं को प्राप्त किया। उसके पास परमेश्वर के वचनों के भीतर अनेक सही अभ्यास थे; यह परमेश्वर की इच्छा के सर्वाधिक अनुकूल है, और यह परमेश्वर के कार्य के उसके अनुभव में उसका सर्वोत्तम सहयोग है" ("मसीह की बातचीतों के अभिलेख" में "पतरस का मार्ग कैसे लें" से)।

विश्वासियों के रूप में हमें सबसे पहले यह समझने की आवश्‍यकता है कि परमेश्‍वर पर विश्वास करने का मतलब क्या है। परमेश्‍वर में विश्वास करने का अर्थ है सत्‍य को समझने और सत्‍य की वास्तविकता को जानने के लिए, परमेश्‍वर के कार्य और उनके वचन का अनुभव करना। यही परमेश्‍वर में विश्वास करने की प्रक्रिया है। अंत के दिनों में परमेश्‍वर का कार्य उनके वचन के माध्यम से न्याय कर रहा है। तब अगर हम चाहते हैं कि हमारे भ्रष्ट स्वभाव शुद्ध हो जाए और हम उद्धार प्राप्त करें, तो हमें पहले परमेश्‍वर के वचन को जानने के कुछ प्रयास करना चाहिए और वास्तव में परमेश्‍वर के वचनों को ग्रहण करना चाहिए, और उनके वचन में परमेश्‍वर के न्याय और प्रकाशन को स्वीकार करना चाहिए। चाहे परमेश्‍वर के वचन कितना ही हृदय को बींधे, वे कितने ही कठोर क्‍यों न हों, या इससे हमें कितनी ही पीड़ा क्‍यों न सहनी पड़े, सबसे पहले यह सुनिश्चित करें कि परमेश्‍वर के वचन सभी सत्य और जीवन की सच्‍चाई हैं, जिनमें हमें प्रवेश करना चाहिए। परमेश्‍वर के वचन की हर अभिव्‍यक्ति हमें शुद्ध करने और बदलने के लिए, हमें हमारे भ्रष्ट स्वभाव को छुड़ाकर उद्धार प्राप्‍त कराने के लिए, और इससे भी अधिक हमें परमेश्‍वर का ज्ञान प्राप्त कर सत्य को समझने के योग्‍य बनाने के लिए है। इसलिए हमें परमेश्‍वर के वचन के न्याय और ताड़ना, कांट-छांट और व्यवहार को स्वीकार करना चाहिए। अगर हम परमेश्‍वर के वचन के सत्य को प्राप्त करना चाहते हैं, तो हमें परमेश्‍वर के वचन और सत्‍य को स्वीकारने और उसका पालन करने के लिए कष्ट झेलने में सक्षम होना चाहिए। हमें परमेश्‍वर के वचन में सत्‍य की खोज करनी चाहिए, परमेश्‍वर की इच्छा को महसूस करना चाहिए, और चिंतन कर स्‍वयं को जानना चाहिए, परमेश्‍वर के वचन पर मनन कर अपने स्वयं के अहंकार, धोखे, स्वार्थ और अधमता को जानना चाहिए, हमें यह जानना चाहिए कि हम कैसे परमेश्‍वर के साथ सौदेबाजी करते हैं, परमेश्‍वर का लाभ उठाते हैं, परमेश्‍वर को धोखा देते हैं, सत्‍य और अन्य शैतानी प्रवृत्तियों के साथ खिलवाड़ करते हैं, और साथ ही हमें परमेश्‍वर में विश्‍वास की अशुद्धियों और परमेश्‍वर का आशीष पाने के हमारे इरादों के विषय में भी जानना चाहिये। इस तरह, हम धीरे-धीरे हमारे भ्रष्टाचार के सत्‍य और हमारे स्वभाव के सार को जान सकते हैं। और अधिक सत्‍य को समझने के बाद, परमेश्‍वर के बारे में हमारा ज्ञान धीरे-धीरे गहरा होता जाएगा, और हम स्वाभाविक रूप से जान पायेंगे कि परमेश्‍वर किस तरह के व्यक्तियों को पसंद और नापसंद करते हैं, वे किस तरह के व्यक्तियों को बचायेंगे या समाप्‍त करेंगे, किस तरह के व्यक्ति का वे इस्तेमाल करेंगे और किस तरह के व्यक्ति को वे आशीष देंगे। इन बातों को समझने के बाद, हम परमेश्‍वर के स्वभाव को समझना शुरू कर देंगे। ये सभी परमेश्‍वर के वचन के न्याय और ताड़ना का अनुभव करने के परिणाम हैं। जो लोग सत्‍य की खोज करते हैं, वे परमेश्‍वर के वचन के न्याय और ताड़ना का अनुभव करने पर ध्यान देते हैं, वे हर बात में सत्‍य की खोज करने पर, और परमेश्‍वर के वचन का अभ्‍यास करने और परमेश्‍वर का आज्ञापालन करने पर ध्यान देते हैं। ऐसे लोग धीरे-धीरे सत्य को समझने और परमेश्‍वर के वचन का अनुभव करके वास्तविकता में प्रवेश करने, और उद्धार प्राप्त करने में सक्षम होंगे और पूर्ण किये जायेंगे। जो लोग सत्‍य से प्रेम नहीं करते, वे भले ही परमेश्‍वर की उपस्थिति को पहचान सकते हैं और परमेश्‍वर द्वारा व्यक्त किये गए सत्य से कार्य करते हैं, वे सोचते हैं कि परमेश्‍वर के लिए सब कुछ छोड़ देने और अपना कर्तव्य पूरा करने मात्र से वे निश्चित रूप से उद्धार प्राप्त कर सकते हैं। अंत में, वे कई सालों तक परमेश्‍वर पर विश्वास करने के बाद भी सत्‍य और जीवन प्राप्त नहीं कर सकते। वे केवल कुछ वचनों, पत्रों और सिद्धांतों को समझते हैं, लेकिन उन्‍हें लगता है कि वे सत्‍य को जानते हैं और उन्होंने सच्‍चाई को हासिल कर लिया है। वे खुद से झूठ बोल रहे हैं और निश्चित रूप से परमेश्‍वर द्वारा समाप्त कर दिए जायेंगे। हम उद्धार प्राप्त करने के लिए परमेश्‍वर के कार्य का अनुभव कैसे करते हैं? आइए सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचन के कुछ और अंश पढ़ते हैं।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं, "जब मनुष्य परमेश्वर के वचन का अभ्यास करता है, केवल तभी उसका जीवन सचमुच में फूल के समान खिल सकता है; यह बस यूं ही उसके वचन को पढ़ने के द्वारा नहीं हो सकता है। यदि यह तुम्हारा विश्वास है कि केवल जीवन पाने और उच्चता पाने के लिए ही परमेश्वर के वचन को समझने की आवश्यकता है, तो तुम्हारी समझ विकृत हो गई है। जब तुम सत्य का अभ्यास करते हो तभी परमेश्वर का वचन सही ढंग से समझ आता है, और तुझे यह समझना होगा कि 'केवल सत्य का अभ्यास करने के द्वारा ही इसे समझा जा सकता है'" ("वचन देह में प्रकट होता है" में "सत्य को समझ लेने के बाद उसका अभ्यास करो" से)।

"परमेश्वर पर अपने विश्वास में, पतरस ने हर एक बात में परमेश्वर को संतुष्ट करने का प्रयास किया था और उन सब में जो परमेश्वर से आया था, उसमें उसने आज्ञा मानने का प्रयास किया। बिना ज़रा सी भी शिकायत के, वह ताड़ना एवं न्याय, साथ ही साथ शुद्धिकरण, क्लेश एवं अपने जीवन में मौजूद कमी को स्वीकार कर सकता था, उसमें से कुछ भी परमेश्वर के प्रति उसके प्रेम को पलट नहीं सकता था। क्या यह परमेश्वर का चरम प्रेम नहीं है? क्या यह परमेश्वर के एक प्राणी के कर्तव्य की परिपूर्णता नहीं है? चाहे ताड़ना हो, न्याय हो, या क्लेश—तू मृत्यु तक आज्ञाकारिता हासिल करने में सदैव सक्षम हो, यह वह चीज़ है जिसे परमेश्वर के एक प्राणी के द्वारा हासिल किया जाना चाहिए, यह परमेश्वर के प्रेम की शुद्धता है। यदि मनुष्य इतना कुछ हासिल कर सकता है, तो वह परमेश्वर का एक योग्य प्राणी है, तथा ऐसा और कुछ नहीं है जो सृष्टिकर्ता की इच्छा को बेहतर ढंग से संतुष्ट कर सकता है" ("वचन देह में प्रकट होता है" में "सफलता या असफलता उस पथ पर निर्भर होती है जिस पर मनुष्य चलता है" से)।

"यदि जिसकी तू खोज करता है वह सत्य है, जिसका तू अभ्यास करता है वह सत्य है, और जो कुछ तू अर्जित करता है वह तेरे स्वभाव में हुआ परिवर्तन है, तो वह पथ जिस पर तूने कदम रखा है वह सही पथ है। यदि जिसे तू खोजता है वह देह की आशीषें हैं, और जिसे तू अभ्यास में लाता है वह तेरी स्वयं की धारणाओं की सच्चाई है, और यदि तेरे स्वभाव में कोई परिवर्तन नहीं होता है, और तू देहधारी परमेश्वर के प्रति बिलकुल भी आज्ञाकारी नहीं है, और तू अभी भी अस्पष्टता में रह रहा है, तो जिसकी भी तू खोज रहा है वह निश्चय ही तुझे नरक ले जाएगा, क्योंकि वह पथ जिस पर तू चलता है वह असफलता का पथ है। तुझे सिद्ध बनाया जाएगा या निष्कासित किया जाएगा यह तेरे स्वयं के अनुसरण पर निर्भर होता है, अर्थात सफलता या असफलता उस पथ पर निर्भर होती है जिस पर मनुष्य चलता है" ("वचन देह में प्रकट होता है" में "सफलता या असफलता उस पथ पर निर्भर होती है जिस पर मनुष्य चलता है" से)।

"यदि कोई सचमुच परमेश्वर द्वारा अपेक्षित मामलों और वचनों से परमेश्वर के वचनों की वास्तविकता में प्रवेश कर सकता है, तो वह परमेश्वर द्वारा सिद्ध किया गया एक व्यक्ति होगा। ऐसा कहा जा सकता है कि परमेश्वर का कार्य और उसके वचन इस व्यक्ति के लिए पूरी तरह से प्रभावी हैं, कि परमेश्वर के वचन उसका जीवन बन जाते हैं, वह सच्चाई को प्राप्त करता है, और वह परमेश्वर के वचनों के अनुसार जी सकता है। इसके बाद, उसके देह की प्रकृति, अर्थात्, उसके मूल अस्तित्व की नींव, हिलकर ढह जाएगी। जब परमेश्वर के वचन किसी का जीवन बन जाते हैं, तो उसके बाद वह एक नया व्यक्ति बन जाता है। परमेश्वर के वचन उसका जीवन बन जाते हैं; परमेश्वर के कार्य का दर्शन, मनुष्य से उसकी अपेक्षाएँ, मनुष्य का उसका प्रकाशन, और एक सच्चे जीवन के वे मानक जो परमेश्वर अपेक्षा करता है कि मनुष्य प्राप्त करे, ये सब उसका जीवन बन जाते हैं— वह इन वचनों और सच्चाइयों के अनुसार जीता है, और यह व्यक्ति परमेश्वर के वचनों द्वारा सिद्ध बन जाता है। परमेश्वर के वचनों के माध्यम से वह पुनर्जन्म का अनुभव करता है और एक नया इंसान बन जाता है" ("मसीह की बातचीतों के अभिलेख" में "पतरस का मार्ग कैसे लें" से)।

सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर कहते हैं, "जब मनुष्य परमेश्वर के वचन का अभ्यास करता है, केवल तभी उसका जीवन सचमुच में फूल के समान खिल सकता है...।" यह पंक्ति सत्‍य है। यह बहुत ही व्यावहारिक है। जिन विश्वासियों ने परमेश्‍वर के वचन का अभ्यास और अनुभव नहीं किया है, वे सत्य को प्राप्त नहीं कर सकते। सत्‍य के बिना व्यक्ति जीवन-रहित व्यक्ति के समान है। सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर ने इस बात की गवाही दी है कि पतरस ने किस प्रकार पूर्ण होने के लिए सत्‍य का अनुसरण किया। पतरस एक ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने सत्‍य का अनुसरण किया था। उन्होंने न केवल परमेश्‍वर से प्रेम करने का तरीका जाना, बल्कि अपने जीवन स्वभाव को बदलने पर भी ध्यान दिया। प्राथमिक अभिव्यक्ति यह है कि वे परमेश्‍वर के न्याय और ताड़ना का पालन कर परीक्षणों और शुद्धि को स्वीकार कर सके। यहां तक कि अगर प्रभु ने उन्हें शैतान को भी सौंप दिया होता, तब भी वे मृत्युपर्यंत आज्ञाकारी बने रहते। उनका प्रभु के लिए क्रूस पर उल्टा चढ़ाया जाना एक सुंदर और शानदार गवाही प्रदान कर रहा था। पतरस ने परमेश्‍वर का कर्मठतापूर्वक पालन करते हुए और उन्‍हें प्यार करते हुए, परमेश्‍वर पर विश्वास करने पर विशेष ध्यान दिया। उन्होंने न केवल उपदेश देने और कार्य करने पर ध्यान दिया, बल्कि विशेष रूप से सत्‍य का अभ्यास करने और सच्‍चाई में प्रवेश करने पर भी ध्यान दिया। इसीलिए पतरस को अंततः परमेश्‍वर ने पूर्ण किया और उन्हें परमेश्‍वर की स्‍वीकृति प्राप्त हुई। पतरस की गवाही के अनुसार, अगर हम उद्धार प्राप्त करना चाहते हैं, तो हम विश्‍‍वासियों को सत्‍य का अनुसरण करना चाहिए, और परमेश्‍वर के वचन को जानने का प्रयास करना चाहिए, हमें सत्‍य की खोज करने, परमेश्‍वर के इरादों को महसूस करने, सत्‍य का अभ्यास करने और वास्तविकता में प्रवेश करने पर ध्‍यान देना चाहिए। इस तरह से अनुसरण करके, हम सत्‍य के बारे में अधिक से अधिक स्पष्ट हो जाएंगे, और इसे अभ्यास करने के लिए हमारे पास अधिक से अधिक मार्ग होंगे। इससे पहले कि हम इसे जान पायें, हम सत्य की वास्तविकता में प्रवेश कर चुके होंगे। अगर हम सिर्फ़ सिद्धांतों को समझकर संतुष्ट हैं, तो हम सत्‍य का अभ्यास नहीं कर सकते हैं और वास्तविकता में प्रवेश नहीं कर सकते हैं। सिद्धांतों को जानने का मतलब यह नहीं है कि हम सत्‍य को समझते हैं। केवल सत्‍य को समझने से हमें परमेश्‍वर को जानने, स्‍वयं को जानने और सचमुच पश्‍चाताप करने में मदद मिलती है। परंतु सिद्धांतों को जानने के साथ ऐसा नहीं है। जो लोग अधिक सिद्धांतों को जानते हैं, वे अधिक दंभी और आत्म-अभिमानी हो जाएंगे। और वे कभी भी परमेश्‍वर या खुद को नहीं जान पायेंगे। जब अंत के दिनों के परमेश्‍वर के कार्य का अनुभव करने की बात आती है, जो लोग सत्‍य से प्यार नहीं करते, वे स्वाभाविक रूप से परमेश्‍वर के वचन के न्याय और ताड़ना को टालेंगे, और परमेश्‍वर से और अधिक दूर चले जायेंगे, खासकर जब वे परमेश्‍वर के वचन को हृदयभेदी और कठोर पायेंगे। ऐसे लोगों को सत्‍य कैसे प्राप्त हो सकता है? जो लोग सत्‍य से सचमुच प्यार करते हैं, वे सत्‍य को प्राप्त करने के लिए किसी भी तरह की पीड़ा का सामना करने को तैयार रहते हैं। परमेश्‍वर के वचन के न्याय से पीड़ित होकर भी वे आज्ञापालन कर सकते हैं। परीक्षण और शुद्धिकरण का सामना होने पर भी वे अविचलित रह सकते हैं। भले ही उनके परिवार अलग कर दिये जायें, वे कैद में रहें या उन्हें अपना जीवन छोड़ना पड़े, तो भी परमेश्‍वर के लिए खड़े रहकर गवाही बन सकते हैं। ऐसे लोग निश्चित रूप से सत्य को प्राप्त कर सकते हैं और परमेश्‍वर के कार्य का अनुभव करने के बाद परमेश्‍वर की स्‍वीकृति प्राप्त कर सकते हैं!

"विजय गान" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

सम्बंधित मीडिया

शायद आपको पसंद आये