सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

प्रश्न 2: भाई डिंग ने अभी कुछ अराजक कामों के बारे में बात की थी, इसलिए जब आप कहते हैं कि अराजकता बढ़ रही है, तो आपका मतलब ऐसे कौन से ख़ास कामों से होता है?

2018-12-05 23

उत्तर: अराजकता बढ़ने का अक्‍सर अर्थ होता है कि वे पादरी, एल्डर्स और अगुवा परमेश्‍वर की इच्छा के विपरीत जाकर अपनी ख़ुद की राह पर चल रहे हैं। वे परमेश्‍वर की आज्ञाओं का अनुसरण नहीं करते, और लोगों को बंधन में जकड़ने, नियंत्रण में रखने और धोखा देने के लिए बाइबल की गलत व्याख्या करते हैं; उन्हें बाइबल संबंधित धर्मशास्त्र में डुबो कर, परमेश्‍वर से दूर ले जाते हैं, और कलीसिया को धार्मिक कर्मकांड की जगह में बदलते हुए, अपने दायित्‍वों और कर्तव्यों को वे अपनी प्रतिष्ठा और कमाई का जरिया समझने लगते हैं, जो कलीसिया में परमेश्‍वर का विरोध करने वाले कई पाखण्डी कार्यों की ओर ले जाता है। कई लोगों ने ख़ुद को अविश्वासियों के रूप में प्रकट किया है। प्रभु के मार्ग से विचलित होकर, वे सांसारिक खुशियों के पीछे भागते हैं, और तो और, वे परमेश्‍वर के वचनों को सिर्फ़ परी कथाओं की तरह दूसरों तक पहुंचा देते हैं। वे बिल्कुल भी ये नहीं मानते कि प्रभु यीशु उपदेश देने और कार्य करने के लिए फ़िर से आयेंगे। ख़ास करके ऐसे धार्मिक अगुवा जिनके दिलों में परमेश्‍वर के प्रति कोई आदरभाव नहीं हैं, और ऐसे सभी तरह के बुरे इंसान और अविश्वासी लोग, जो नहीं चाहते कि सत्य उजागर किया जाए। वे खुले आम बुरे काम करते हैं, अंत के दिनों के परमेश्‍वर के कार्य का खंडन करते हैं और सत्य को अस्वीकारते हैं। ये धार्मिक पादरी और एल्डर्स बाइबल संबंधित ज्ञान और धर्मशास्त्र का उपदेश देते हैं। वे अपनी ख़ुद की प्रतिष्ठा, प्रभाव और कमाई की रक्षा करने की कोशिश करते हैं, लेकिन वे प्रभु के मार्ग का अनुसरण करने या प्रभु के वचनों का प्रचार करने से इनकार करते हैं। वे बिल्‍कुल भी प्रभु की प्रशंसा नहीं करते या उनकी गवाही नहीं देते हैं। उसकी ज़गह वे परमेश्‍वर के वचन के सत्य के साथ विश्वासघात करने वाले उपदेश देते हैं, और लोगों को धोखा देने और उन्‍हें काबू में करने के लिए हठपूर्वक फरीसियों की तरह परमेश्‍वर के विरोध का मार्ग अपना कर, वे भ्रांतियों और इंसानी परम्पराओं का इस्तेमाल करते हैं। कई धर्मपरायण पादरी और एल्डर्स भी सांसारिक सुखों के पीछे भागते हैं, वे फैशन, धन की लालसा और पद के लिए संघर्ष करते हैं। वे शुध्द रूप से सांसारिक मनुष्य हैं, पूरी तरह से अविश्वासी। सबसे ज़्यादा गुस्‍सा दिलाने वाली बात यह है कि ये धार्मिक अगुवा, पादरी, और एल्डर्स विश्वासियों को धोखा देने और उन्हें नियंत्रित करने के लिए अंत के दिनों के परमेश्‍वर के कार्य की निराधार निंदा करते हैं, यहां तक कि वे सीसीपी की सत्‍ता के साथ गठजोड़ करके परमेश्‍वर के विरोध में शैतान के साथ खड़े होते हैं और परमेश्‍वर को फ़िर से सूली पर चढ़ाते हैं, जिसके लिए परमेश्‍वर उनसे नफरत करते हैं और उन्‍हें शापित करते हैं। ये अराजक काम हम सभी के सामने बिल्कुल साफ तथ्य हैं। ये धार्मिक जगत के साथ सरासर धोखे से कुछ कम नहीं हैं। और इन अराजक कृत्यों में बढ़ोत्तरी के कारण, कई विश्वासियों का विश्वास एवं प्रेम ठंडा पड़ गया है और वे नकारात्मक और कमज़ोर हो गए हैं। चूंकि इन धार्मिक अगुवाओं ने अपना ख़ुद का मार्ग चुन लिया है, और वे अब परमेश्‍वर के मार्ग का अनुसरण नहीं करते हैं, पवित्र आत्मा का काम रोक दिया गया है, और धार्मिक स्थलों का परित्याग कर दिया गया है। पवित्र आत्मा का कार्य उन लोगों के पास आ गया है जो अंत के दिनों में सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के कार्य को स्वीकार करते हैं। और इन बातों में हम देखते हैं कि परमेश्‍वर का धार्मिक स्वभाव मनुष्य की गलतियों के प्रति असहनशील है।

हमने अभी-अभी धार्मिक दुनिया के वीरान हो जाने के कुछ कारणों पर सहभागिता की। अब मैं अपने ख़ुद के दृष्टिकोण और विचार को धार्मिक दुनिया के वीरान होने के मूल कारणों से जोड़ना चाहूंगी। चलिए पहले हम सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचन के दो अंशों को पढ़ते हैं, जो धर्म में वीरानी के कारणों को बेहतर ढंग से समझने में आपकी मदद करेंगे। सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं, "परमेश्वर इस सत्य को पूर्ण करेगा: वह सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड के लोगों को अपने सामने आने देगा, और पृथ्वी पर परमेश्वर की आराधना करवाएगा, और अन्य स्थानों पर उसका कार्य समाप्त हो जाएगा और लोगों को सच्चा मार्ग तलाशने के लिए मजबूर किया जाएगा। यह यूसुफ की तरह होगा: हर कोई भोजन के लिए उसके पास आया, और उसके सामने झुका, क्योंकि उसके पास खाने की चीज़ें थीं। अकाल से बचने के लिए लोग सच्चा मार्ग तलाशने के लिए मजबूर हो जाएँगे। सम्पूर्ण धार्मिक समुदाय गंभीर भूखमरी से पीड़ित हो रहा है और केवल परमेश्वर ही आज, मनुष्य के आनन्द के लिए हमेशा बहने वाले स्रोत को धारण किए हुए, जीवन के जल का स्रोत है, और लोग आकर उस पर निर्भर हो जाएँगे" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "सहस्राब्दि राज्य आ चुका है")। "समस्त ब्रम्हांड में परमेश्वर के सारे कार्य ने इसी एक जनसमूह पर ध्यान केंद्रित किया है। उसने अपने सभी प्रयास तुम लोगों के लिये समर्पित किये और तुम्हारे लिये सब कुछ बलिदान किया है, उसने फिर से दावा किया है और समस्त ब्रम्हांड में तुम लोगों के लिये पवित्रा आत्मा के सभी काम दिये हैं। यही कारण है कि मैं कहता हूं, तुम सभी सौभाग्यशाली हो" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "क्या परमेश्वर का कार्य इतना सरल है, जितना मनुष्य कल्पना करता है?")। सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर ने पहले ही धार्मिक जगत में अकाल के कारण को स्पष्ट कर दिया है। इससे हमें परमेश्‍वर की सर्वव्यापकता और बुद्धिमत्‍ता का पता चलता है। परमेश्‍वर ने उन लोगों का त्याग नहीं किया है जो सत्‍य से प्रेम करते और उनके प्रकटन की लालसा रखते हैं। परमेश्‍वर ने अकाल के आगमन का इस्तेमाल उन्हें सच्चे मार्ग को तलाशने के लिए, और उन्हें कलीसिया के वीराने में परमेश्‍वर की इच्छा और परमेश्‍वर के पदचिन्‍हों को खोजने को मज़बूर करने के लिए किया है। उन्होंने प्रत्येक पंथ और संप्रदाय में, जो लोग सत्‍य से प्रेम करते हैं और वाकई परमेश्‍वर में विश्‍वास करते हैं, उन्‍हें अपने सिंहासन के सम्मुख आने में सहायता करने के लिए किया है। इसलिए परमेश्वर कहते हैं "समस्त ब्रह्माण्ड में परमेश्वर के सारे कार्य ने इसी एक जनसमूह पर ध्यान केंद्रित किया है।" इससे हम समझ सकते हैं कि पवित्र आत्मा का कार्य उन लोगों के पास आ गया है जो अंत के दिनों में सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के कार्य को स्वीकार करते हैं। और यह इस तथ्य का प्रमाण है कि परमेश्‍वर उन सभी लोगों के लिए हैं जो उनके सिंहासन के सामने इसलिये आते हैं ताकि वे ऐसे बन सकें जो परमेश्‍वर के दिल के करीब आना चाहते हैं। ये वे लोग हैं जिन्हें आपदा आने से पहले परमेश्‍वर द्वारा विजेता बना दिया जाएगा, और इस तरह मेमने के साथ शादी की दावत में शामिल होने वाली बुद्धिमान कुंवारियों के बारे में प्रभु यीशु की भविष्यवाणियों की पुष्‍टि होगी। मूर्ख कुंवारियां, जिन्‍हें कोई फर्क नहीं पड़ता कि उनकी कलीसियाएं कैसे वीरान या अंधेरी बन गई हैं, वे वहीं बनी रहती हैं और मौत का इंतज़ार करती हैं, और वे मिस्र से बाहर ले जाए गए इसराइलियों की तरह हैं जो बीहड़ में मारे गए। पूरा धार्मिक जगत ही बर्बादी का मुकाम बन चुका है, खास तौर पर, क्योंकि धार्मिक जगत के अगुवाओं ने फरीसियों के मार्ग का अनुसरण किया और प्रभु के इरादे के साथ धोखा किया। वे परमेश्‍वर की इच्छा का पालन नहीं करते, प्रभु की आज्ञाओं का पालन नहीं करते और बहुत पहले परमेश्‍वर द्वारा त्याग दिए गए थे। अंत के दिनों के देहधारी परमेश्‍वर के व्‍यक्‍त सत्‍य से, उनका मसीह-विरोधी स्वभाव और सार उजागर हो गया है, और वे उन लोगों की तरह बन गये हैं, जिन्होंने परमेश्‍वर को फ़िर से सूली पर चढ़ाया है, और जिन्हें परमेश्‍वर ने शाप दिया है। धार्मिक जगत को अकाल का सामना करवाने में परमेश्‍वर का क्या उद्देश्य है? वे लोगों को सही मार्ग की तलाश करने के लिए मज़बूर करना चाहते हैं। सिर्फ़ वे लोग जो परमेश्‍वर की वाणी को खोजना चाहते हैं, और जो अंत के दिनों में सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के न्याय के कार्य को स्वीकार करते हैं, उन्हें फ़िर से पवित्र आत्मा का कार्य, उनके सिंहासन से प्रवाहित होने वाली सजीव जीवन जल की धारा का पोषण मिलता है, और अंत में वे बचा लिए जाएंगे और उन्हें स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी। ये वे लोग हैं, जिनके बारे में प्रभु यीशु ने भविष्यवाणी की थी कि वे स्वर्ग के राज्य में पकड़े जाएँगे। अगर हम सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचनों के न्याय, ताड़ना, शुद्धिकरण और उद्धार से इनकार करते हैं, तो हमें सदा के लिए त्याग दिया जाएगा और हटा दिया जाएगा। जैसा कि सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर कहते हैं, "यदि तुम अंतिम दिनों में मसीह का विरोध करोगे और उसे नकारोगे, तो ऐसा कोई भी नहीं है जो तुम्हारे लिए सज़ा भुगत ले। इसके अलावा, फिर कभी तुम्हें परमेश्वर का अनुमोदन प्राप्त करने का अवसर नहीं मिलेगा; यदि तुम अपने उद्धार की कोशिश भी करते हो, तो तुम कभी भी परमेश्वर का चेहरा नहीं देख पाओगे। क्योंकि तुम जिसका विरोध करते हो वह मनुष्य नहीं है, जिसको नकार रहे हो वह नन्हा सा प्राणी नहीं है, बल्कि मसीह है। क्या तुम परिणामों के बारे में जानते हो? तुमने कोई छोटी-मोटी गलती नहीं की है, बल्कि एक बहुत ही जघन्य अपराध किया है। इसलिए मैं प्रत्येक को सलाह देता हूं कि सत्य के सामने अपने ज़हरीले दांत मत दिखाओ, या लापरवाही से आलोचना मत करो, क्योंकि केवल सत्य ही तुमको जीवन दिला सकता है और सत्य के अलावा कुछ भी तुमको नया जन्म देने के लिए या परमेश्वर का चेहरा देखने के लिए अनुमति नहीं दे सकता है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनन्त जीवन का मार्ग दे सकता है")।

"सिंहासन से बहता है जीवन जल" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

सम्बंधित मीडिया

शायद आपको पसंद आये