सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

प्रप्रश्न 4: प्रभु यीशु ने अपने शिष्यों को स्वर्ग का राज्य के रहस्यों के बारे में बताया, और क्या प्रभु यीशु की वापसी के रूप में, सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने भी अनेक रहस्य उजागर किए हैं? क्या आप लोग सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा प्रकट किए गए कुछ रहस्यों के बारे में हमारे साथ संगति कर सकते हैं? इससे परमेश्वर की वाणी पहचानने में हमें बहुत सहायता मिलेगी।

2018-12-12 19

उत्तर: प्रत्येक बार जब परमेश्वर देहधारण करते हैं, वे हमारे लिए अनेक सत्यों और रहस्यों को प्रकट करते हैं। इसमें कोई संदेह नहीं। मानवजाति को बचाने के लिए परमेश्वर देहधारण करते हैं, और इसलिए स्वाभाविक रूप से वे अनेक सत्यों को अभिव्यक्त करते हैं, और अनेक रहस्यों को प्रकट करते हैं। उदाहरण के लिए, अनुग्रह के युग में, देहधारी परमेश्वर, प्रभु यीशु ने उपदेश देने और अपना कार्य करने के क्रम में अनेक रहस्यों को प्रकट किया, "मन फिराओ क्योंकि स्वर्ग का राज्य निकट आया है" (मत्ती 4:17)। "जो मुझ से, 'हे प्रभु! हे प्रभु!' कहता है, उनमें से हर एक स्वर्ग के राज्य में प्रवेश न करेगा: परन्तु वही जो मेरे स्वर्गीय पिता की इच्छा पर चलता है" (मत्ती 7:21)। इसके अतिरिक्त, प्रभु यीशु ने और भी अनेक रहस्य प्रकट किए, जिनके बारे में मैं अभी नहीं बोलूँगी। अंत के दिनों में, सर्वशक्तिमान परमेश्वर आए हैं और परमेश्वर के घर से आरंभ करते हुए उन्होंने न्याय का कार्य शुरू किया है, और मानवजाति की शुद्धि और उद्धार के लिए सभी सत्यों को प्रकट कर दिया है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने न केवल प्रभु यीशु की सभी भविष्यवाणियों को पूरा किया है, बल्कि उन्होंने हमारे सामने अतीत, वर्तमान और भविष्य के उन सभी महान रहस्यों को भी उजागर कर दिया है जिनका सम्बंध परमेश्वर की प्रबंधन योजना से है। आइए, हम सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का एक अंश पढ़ें। "वह कार्य जिसका मैं हज़ारों सालों से प्रबंधन करता आ रहा हूँ वह केवल अंत के दिनों में ही मनुष्य के सामने पूर्णतः प्रकट होता है। केवल अब है कि मैंने अपने प्रबन्धन के पूरे रहस्य को मनुष्य के लिए खोला है। मनुष्य मेरे कार्य के उद्देश्य को जानता है और इसके अतिरिक्त उसने मेरे सभी रहस्यों की समझ प्राप्त कर ली है। और मैंने मनुष्य को उस मंज़िल के बारे में सब कुछ बता दिया है जिसके बारे में वह चिंतित है। मैंने पहले से ही मनुष्य के लिए अपने सारे रहस्यों को अनावृत कर दिया है जो लगभग 5,900 सालों से अधिक समय से गुप्त थे" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "सुसमाचार को फैलाने का कार्य मनुष्यों को बचाने का कार्य भी है")। "कार्य का यह चरण तुम्हारे लिए यहोवा की व्यवस्था और यीशु द्वारा छुटकारे को स्पष्ट करेगा, और मुख्य रूप से इसलिए है ताकि तुम परमेश्वर की छह-हजार वर्षीय प्रबंधन योजना के पूरे कार्य को समझ सको, और इस छः-हज़ार वर्ष की प्रबंधन योजना के महत्व और सार की सराहना कर सको, और यीशु द्वारा किए गए सभी कार्यों और उसके द्वारा बोले गए वचनों के प्रयोजन, और यहाँ तक कि बाइबल में तुम्हारे अंध विश्वास और श्रद्धा को समझ सको। यह तुम्हें इन सबको समझने की अनुमति देगा। यीशु द्वारा किया गया कार्य और परमेश्वर का आज का कार्य दोनों तुम्हारी समझ में आ जाएँगे; तुम समस्त सत्य, जीवन और मार्ग को समझ जाओगे और देख लोगे। …अंत में, यह वर्तमान चरण परमेश्वर के कार्य का पूर्णतः अंत करेगा, और इसका उपसंहार प्रदान करेगा। परमेश्वर की प्रबंधन योजना सभी की समझ और सभी के ज्ञान में आ जाएगी। मनुष्य के भीतर धारणाएँ, उसके इरादे, उसकी त्रुटिपूर्ण समझ, यहोवा और यीशु के कार्यों के प्रति उसकी धारणाएँ, अन्य जतियों के बारे में उसके विचार और उसके सभी विचलन और उसकी सभी त्रुटियाँ ठीक कर दी जाएँगी। और जीवन के सभी सही मार्ग, और परमेश्वर द्वारा किया गय समस्त कार्य और संपूर्ण सत्य मनुष्य की समझ में आ जाएँगे। जब ऐसा होगा, तो कार्य का यह चरण समाप्त हो जाएगा" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "परमेश्वर के कार्य का दर्शन (2)")।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने मानवजाति के उद्धार के लिए अपनी 6,000-वर्षीय प्रबंधन योजना के सभी रहस्यों को प्रकट कर दिया है। और सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने मानवजाति के प्रबंधन में परमेश्वर के लक्ष्य के बारे में हमें बताया है। उन्होंने हमें यह दिखाया है कि परमेश्वर ने मानवजाति की रक्षा के लिए कार्य के तीन चरण क्यों पूरे किए हैं, कार्य के ये तीनों चरण कदम-दर-कदम कैसे आगे बढ़े हैं, और उनके बीच आपस में क्या संबंध और अंतर हैं। सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने हमें यह भी बताया है कि परमेश्वर के नामों का क्या महत्व है, परमेश्वर अंत के दिनों में न्याय का कार्य कैसे करते हैं, और न्याय के कार्य का क्या महत्व है। उन्होंने हमारे सामने देहधारण के रहस्यों और बाइबल की अंदरूनी कथा को प्रकट किया है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने यह खुलासा किया है कि परमेश्वर सभी वस्तुओं के जीवन का स्रोत हैं, और यह कि परमेश्वर सभी वस्तुओं को कैसे नियंत्रित करते हैं। सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने हमें परमेश्वर के अनूठे अधिकार के बारे में, परमेश्वर के धार्मिक स्वभाव के बारे में, उनकी पवित्रता और सर्वशक्तिमत्ता तथा बुद्धिमत्ता के बारे में बताया है। इतना ही नहीं, सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने हमारे सामने यह भी प्रकट किया है कि समस्त मानवजाति का अभी तक कैसे विकास हुआ है, और शैतान ने मानवजाति को कैसे भ्रष्ट किया है, और उन्होंने शैतान द्वारा मानवजाति के भ्रष्ट होने की सच्चाई बताई है, जो कि भ्रष्ट मानवजाति द्वारा परमेश्वर का विरोध किए जाने और उनके प्रति विश्वासघात का मूल स्रोत है, यह कि मानवजाति को बचाने के लिए परमेश्वर कैसे कार्य करते हैं, परमेश्वर के कार्य में अवरोध और बाधा उत्पन्न करने के लिए शैतान ने कैसी धूर्ततापूर्ण योजनाओं पर काम किया है, और परमेश्वर किस तरह शैतान को पराजित करते और उसकी नियति का अंत करते हैं। सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने हमें एक सच्चे जीवन का अर्थ दर्शाया है, यह कि सचमुच खुश रहने के लिए मनुष्य को कैसे कार्य करना चाहिए, साथ ही यह कि विभिन्न प्रकार के लोगों का अंत कैसे होता है, मनुष्य का सही गंतव्य क्या है, और अंत में यह कि परमेश्वर इस युग का अंत कैसे करेंगे, और मसीह का साम्राज्य कैसे स्थापित होगा, इत्यादि। ये सभी रहस्य हमारे सामने सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा प्रकट किए गए हैं। प्रभु यीशु और सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा प्रकट किए गए सत्यों और रहस्यों से हम यह देख सकते हैं कि ये सारे रहस्य परमेश्वर और स्वर्ग का राज्य से सम्बंधित हैं, साथ ही इनका संबंध परमेश्वर द्वारा भविष्य में पूरे किए जाने वाले कार्यों से भी है। ये सारे रहस्य परमेश्वर की प्रबंधन योजना से और मानवजाति के अंतिम लक्ष्य से जुड़े हुए हैं। परमेश्वर द्वारा इन रहस्यों को प्रकट किए जाने का गहरा अर्थ है। प्रभु यीशु और सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा प्रकट किए गए सत्यों और रहस्यों से हम यह जान सकते हैं कि ये सभी शब्द परमेश्वर की वाणी हैं। क्योंकि परमेश्वर के सिवा अन्य कोई भी इन रहस्यों को नहीं जान सकता था। केवल परमेश्वर ही इसे जानते हैं। फ़रिश्ते नहीं जानते, मनुष्य तो और भी कम जानता है। और इसलिए, प्रभु यीशु और सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा प्रकट किए गए सत्य एवं रहस्य एक ही आत्मा की अभिव्यक्ति हैं, और एक ही परमेश्वर के कार्य हैं। सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा अंत के दिनों में किया गया न्याय का कार्य प्रभु यीशु द्वारा किए गए कार्य के बाद जारी रहता है। इससे प्रभु यीशु के ये वचन पूरे हो जाते हैं: "मुझे तुम से और भी बहुत सी बातें कहनी हैं, परन्तु अभी तुम उन्हें सह नहीं सकते। परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपनी ओर से न कहेगा परन्तु जो कुछ सुनेगा वही कहेगा: और आनेवाली बातें तुम्हें बताएगा" (यूहन्ना 16:12-13)। सर्वशक्तिमान परमेश्वर ही प्रभु यीशु की वापसी हैं, यह कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर एक ही सच्चे परमेश्वर के प्रकटन हैं!

सर्वशक्तिमान परमेश्वर हमारे समक्ष उन सभी सत्यों और रहस्यों को प्रकट करते हैं जिन्हें भ्रष्ट मानवजाति को समझ लेना चाहिए और अपनी रक्षा के लिए उन्हें स्वीकार कर लेना चाहिए। इस तरह हम परमेश्वर के प्रति अपनी आस्था में स्पष्ट, शांत और कांतिमान अनुभव करते हैं। इस तरह हम परमेश्वर के प्रति अपनी आस्था के सही मार्ग में प्रवेश करने में सक्षम होते हैं। हमें केवल सर्वशक्तिमान परमेश्वर के कार्य को स्वीकार करने और उनकी आज्ञा मानने और सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा अभिव्यक्त किए गए सभी सत्यों में प्रवेश पाने के लिए प्रयास करने की आवश्यकता है, ताकि हम सत्य को अपने जीवन के रूप में पा सकें, अपना उद्धार कर सकें और स्वर्ग का राज्य में प्रवेश पा सकें। अब हम एक अंश सुनें जिसमें सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने परमात्मा के स्वभाव के रहस्य को उजागर किया है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं, "परमेश्वर का स्वभाव सब बातों में जीवित प्राणियों के शासक, और सारी सृष्टि के प्रभु से सम्बन्ध रखता है। उसका स्वभाव आदर, सामर्थ, कुलीनता, महानता, और सब से बढ़कर, सर्विच्चता का प्रतिनिधित्व करता है। उसका स्वभाव अधिकार और उन सब का प्रतीक है जो धर्मी, सुन्दर, और अच्छा है। इस के अतिरिक्त, यह इस का भी प्रतीक है कि परमेश्वर को अंधकार और शत्रु के बल के द्वारा दबाया या उस पर आक्रमण नहीं किया जा सकता है[क], साथ ही इस बात का प्रतीक भी है कि उसे किसी भी सृजे गए प्राणी के द्वारा ठेस नहीं पहुंचाई जा सकती है (और उसे ऐसा करने की अनुमति नहीं है)[ख]। उसका स्वभाव सब से ऊँची सामर्थ का प्रतीक है। कोई भी मनष्य उसके कार्य और उसके स्वभाव को अस्थिर नहीं कर सकता है। …परमेश्वर का आनन्द धार्मिकता और ज्योति की उपस्थिति और अभ्युदय से है; अँधकार और बुराई के विनाश से है। वह आनन्दित होता है क्योंकि वह मानव जाति के लिए ज्योति और अच्छा जीवन ले कर आया है; उसका आनन्द धार्मिकता का है, हर चीज़ के सकारात्मक होने का एक प्रतीक, और सब से बढ़कर कल्याण का प्रतीक। परमेश्वर का क्रोध अन्याय की मौजूदगी और उस अस्थिरता के कारण है जो इससे पैदा होती है जो उसकी मानव जाति को हानि पहुँचा रही है; बुराई और अँधकार की उपस्थिति के कारण, और ऐसी चीज़ों की उपस्थिति जो सत्य को बाहर धकेल देती है, और उस से भी बढ़कर ऐसी चीज़ों की उपस्थिति के कारण जो उनका विरोध करती हैं जो भला और सुन्दर है। उसका क्रोध एक चिन्ह है कि वे सभी चीज़ें जो नकारात्मक हैं आगे से अस्तित्व में न रहें, और इसके अतिरिक्त यह पवित्रता का प्रतीक है। उसका दुखः मानव जाति के कारण है, जिसके लिए उस ने आशा की थी परन्तु वह अंधकार में गिर गई, क्योंकि जो कार्य वह मनष्यों के लिए करता है मनुष्य वह उसकी अपेक्षाओं पर खरा नहीं उतरता, और क्योंकि वह जिस मानव जाति से प्रेम करता है वह ज्योति में पूरी तरह जीवन नहीं जी पाती। वह अपनी भोलीभाली मानव जाति के लिए, ईमानदार किन्तु अनजान मनुष्य के लिए, और अच्छे और अनिश्चित भाव वाले मनुष्य के लिए दुखः की अनुभूति करता है। उसका दुखः उसकी भलाई और उसकी करूणा का चिन्ह है, और सुन्दरता और उदारता का चिन्ह है। उसकी प्रसन्नता, वास्तव में, अपने शत्रुओं को हराने और मनुष्यों के भले विश्वास को प्राप्त करने से आती है। इसके अतिरिक्त, सभी शत्रु ताकतों को भगाने और हराने से और मनुष्यों के द्वारा भले और शांतिपूर्ण जीवन को प्राप्त करने से आती है। परमेश्वर की प्रसन्नता, मनुष्य के आनंद के समान नहीं है; उसके बजाए, यह मनोहर फलों को प्राप्त करने का एहसास है, एक एहसास जो आनंद से बढ़कर है। उसकी प्रसन्नता इस बात का चिन्ह है कि मानव जाति दुखः की जंज़ीरों को तोड़कर आज़ाद होकर ज्योति के संसार में प्रवेश करती है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "परमेश्वर के स्वभाव को समझना अति महत्वपूर्ण है")।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने हमारे सामने यह प्रकट किया है कि परमेश्वर का स्वभाव किस बात को दर्शाता है, और परमेश्वर के स्वभाव का संकेत और अर्थ क्या है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने परमेश्वर के स्वभाव और मनुष्य जाति में आनन्द, क्रोध, दुख और खुशी के बीच के संबंध को भी व्यक्त किया है। स्वयं परमेश्वर के सिवा उनके स्वभाव के बारे में इतनी स्पष्टता से और कौन बता सकता है? और परमेश्वर के स्वभाव के संकेत और अर्थ को और कौन जान सकता है? प्राचीन काल से लेकर अब तक, परमेश्वर के स्वभाव के बारे में इतना सही और स्पष्ट गवाही दे सकने, और हमें पूरी तरह आश्वस्त करने में कोई भी सक्षम नहीं हो सका। परमेश्वर का आनन्द, क्रोध, दुख और प्रसन्नता मानवजाति के प्रबंधन से जुड़े उनके समस्त कार्य में परिलक्षित होते हैं। और जब हम परमेश्वर के कार्य का अनुभव करते हैं, तो हम भी यह आस्वाद पाने और समझने में समर्थ होते हैं कि परमेश्वर के स्वभाव में निहित आनन्द, क्रोध, दुख और प्रसन्नता केवल शब्द नहीं हैं बल्कि वे व्यावहारिक, वास्तविक और स्पष्ट तथ्य हैं। परमेश्वर का आनन्द, क्रोध, दुख और प्रसन्नता, ये सब परमेश्वर के जीवन के सार की अभिव्यक्ति हैं। वे सकारात्मक बातों के यथार्थ और धार्मिकता के प्रतीक हैं। परमेश्वर द्वारा मनुष्य की रक्षा के कार्य में, हम देखते हैं कि परमेश्वर द्वारा प्रकट किए गए आनन्द, क्रोध, दुख और प्रसन्नता, ये सब मानव जाति के अस्तित्व में बने रहने के लिए हैं। ये सब मानव जाति की रक्षा के लिए हैं ताकि मानव जाति शैतान की यातनाओं से मुक्त हो सके और ज्ञान के प्रकाश में जी सके। और फिर वे इसलिए हैं ताकि वे मानव जाति को सुन्दर गंतव्य की ओर ले जा सकें। परमेश्वर द्वारा मानव जाति का उद्धार किए जाने के क्रम में, हमने यह देखा है कि परमेश्वर वास्तव में हर वस्तु पर नियंत्रण रखते हैं, और सभी वस्तुओं पर शासन करते हैं। परमेश्वर का स्वभाव उच्चतम अधिकार का प्रतीक है। यह इस बात का प्रतीक है कि अंधकार की कोई भी शक्ति दमन नहीं कर सकती, न हानि पहुँचा सकती है, और न ही कोई शत्रुतापूर्ण शक्ति परमेश्वर को उनकी इच्छा पूरी करने से रोक सकती है। अनुग्रह के युग को याद करो: जब यीशु उपदेश दे रहे थे और अपना कार्य कर रहे थे, तब धार्मिक समुदाय के नेता लोग उन्माद में आकर प्रभु यीशु की निंदा और उनका विरोध किया करते थे। यहाँ तक कि उन्होंने रोम की सरकार से मिली-भगत करके यीशु को सूली पर भी चढ़ा दिया। फिर भी शैतान की धूर्तता भरी योजना पर परमेश्वर की बुद्धिमत्ता हावी हुई। यीशु के सूली पर चढ़ाए जाने से ही मानव जाति का उद्धार हो पाया, और इस माध्यम से प्रभु यीशु का सुसमाचार विश्व के कोने-कोने तक फैल गया, और जिन्होंने परमेश्वर के कार्य का विरोध किया और उनकी निंदा की, उन्हें परमेश्वर के दंड का भागी होना पड़ा। इस तरह, हम देखते हैं कि मनुष्य परमेश्वर के धार्मिक स्वभाव का उल्लंघन नहीं कर सकता! साम्राज्य का युग आ चुका है। जबसे उन्होंने चीन में न्याय का कार्य आरंभ किया है, तब से नास्तिकता के इस मजबूत गढ़ में, देहधारी सर्वशक्तिमान परमेश्वर का धार्मिक नेताओं ने फिर से उन्मादपूर्ण विरोध और निंदा करना शुरू कर दिया है। इसी तरह, शैतानी सीसीपी शासन द्वारा निर्दयतापूर्वक लोगों को गिरफ़्तार करने और यातनाएँ देने का दौर चल पड़ा है। इसके बावजूद, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के साम्राज्य का सुसमाचार चीन के समस्त मुख्य भूभाग में फ़ैल गया है। विभिन्न समुदायों और पृष्ठभूमियों के लोग, जो सचमुच और सम्पूर्ण रूप से परमेश्वर में विश्वास करते हैं, वे परमेश्वर के सिंहासन के समक्ष लौट आए हैं। सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा अभिव्यक्त किए गए सभी सत्य भी सबके लिए ऑनलाइन उपलब्ध हैं जिन्हें दुनिया भर के देशों-प्रदेशों के लोग खोज सकते हैं, और प्राप्त कर सकते हैं। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों में अधिकार और शक्ति है, और उन्होंने हजारों-हजार लोगों के दिलों को जीता है। खास तौर पर, वे जो सचमुच परमेश्वर में विश्वास करते हैं और जिन्हें सचमुच सच्चे मार्ग की प्रबल इच्छा है वे सब परमेश्वर के सिंहासन के समक्ष वापस लौट आए हैं। और उन सबको परमेश्वर की वाणी से पोषित और अभिसिंचित होने का आनन्द प्राप्त है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने सचमुच विजेताओं के एक पूरे समूह को सम्पूर्ण बनाया है और ऐसे लोगों का समूह प्राप्त किया जो परमेश्वर के साथ एकमत हैं। इस दौरान, धार्मिक समुदाय के वे लोग जो परमेश्वर के कार्य का विरोध और उसकी निंदा करते हैं, उन सबको विभिन्न अनुपातों में दंड और श्राप का भागी बनना पड़ा है। कुछ लोगों का तो यीशु-विरोधी होने के रूप में भंडाफोड़ भी हुआ है और उन्हें ऐसा दंड मिला है जो असहनीय रूप से कठोर है। उनकी मौत यहूदा से भी बुरी हुई है। इस तरह, हम देखते हैं कि परमेश्वर का धार्मिक स्वभाव सचमुच मनुष्य के लिए अनापत्ति के योग्य रहा है। इसी तरह, शैतानी सीसीपी शासन, जो परमेश्वर से प्रतिस्पर्द्धा करता है और जिसने स्वयं को परमात्मा के विरुद्ध खड़ा कर रखा है, उसे भी परमेश्वर द्वारा श्रापित होना पड़ा है। उसका नष्ट हो जाना तय है, जो कि परमेश्वर के धार्मिक स्वभाव को पूर्णता से दर्शाता है। परमेश्वर के दो देहधारणों के कार्य के तथ्य से, हम सभी वस्तुओं को नियंत्रित करने वाले परमेश्वर के अनूठे अधिकार को देखते हैं। परमेश्वर का स्वभाव एक संकेत है जिसे अंधकार की किसी भी शक्ति द्वारा दबाया नहीं जा सकता। परमेश्वर से शत्रुता रखने वाली हर शक्ति परमेश्वर के दंड से डगमगा जाएगी और उसका अस्तित्व ही नहीं रहेगा। यह एक तथ्य है। हमने इतने वर्षों में सर्वशक्तिमान परमेश्वर के न्याय को वचन रूप में अनुभव किया है। हमने यह देखा है कि परमेश्वर का स्वभाव न केवल दयालु और करुणामय है बल्कि धार्मिक और महिमावान भी है। ऐसा बहुत बार हुआ है जब हमने परमेश्वर को गलत समझा है क्योंकि हम उनकी इच्छा को नहीं समझ पाते, किन्तु परमेश्वर फिर भी हमें याद दिलाते हैं, सांत्वना देते और समझाते हैं, और इस तरह हम परमेश्वर की दया और करुणा का अनुभव कर पाते हैं। लेकिन जब हम परमेश्वर की आज्ञा का पालन नहीं करते, तो वे कठोर न्याय करते हैं, हमारा पर्दाफाश करते और हमें अनुशासित करते हैं, इससे हमें यह समझने में मदद मिलती है कि परमेश्वर का स्वभाव धार्मिक एवं महिमामय है और लोगों को अपराध नहीं करने देता है। अपने वास्तविक अनुभवों में, हमने देखा है कि परमेश्वर का स्वभाव कितना सच्चा, वास्तविक और सुस्पष्ट है, परमेश्वर अत्यंत पवित्र हैं, अत्यंत धार्मिक, सुहृदय और आदरणीय हैं। परमेश्वर वास्तव में और सही मायनों में लोगों के बीच अपना कार्य करने के लिए अवतरित हुए हैं और वे हमारे बिल्कुल सम्मुख हैं, व्यक्तिगत रूप से हमारा मार्गदर्शन और हमारी रक्षा करते हैं। सर्वशक्तिमान परमेश्वर हमारे प्रभु, हमारे परमेश्वर हैं, वे एकमात्र सच्चे परमेश्वर हैं जिन्होंने स्वर्गों, इस धरती और सभी वस्तुओं को बनाया है, और जो सभी वस्तुओं पर शासन करते हैं।

"प्रतीक्षारत" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

सम्बंधित मीडिया

शायद आपको पसंद आये