सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

ईमानदार लोगों में ही होती है इंसानियत

कलीसिया का भजन ईमानदार लोगों में ही होती है इंसानियत शोहरत,मुनाफ़े की ख़ातिर,आचरण के मानक त्यागे मैंने,रोज़ीरोटी के लिये झूठ बोलती थी मैं। विवेक या नैतिकता की परवाह की नहीं मैंने,सच्चाई या गरिमा की परवाह की नहीं मैंने। जीती थी सिर्फ़ अपनी बढ़ती अभिलाषा,लालच की संतुष्टि के लिए। बेचैन दिल लिये,पाप के कीचड़ में लोटती थी मैं,इस बेइंतिहा अंधेरे से बच न सकी मैं। नश्वर दौलत,पल भर का सुख,छुपा सके न भीतर के ख़ालीपन को। जीवन में ईमान का होना मुश्किल क्यों है? इंसान इतना दुष्ट और शातिर क्यों है? कैसी दुनिया है ये? कौन बचा सकता मुझको? सुनकर परमेश्वर की वाणी,लौट आई सम्मुख उसके मैं। पढ़कर परमेश्वर के वचन हर दिन,बहुत लाभ पाती हूँ मैं। बहुत से सत्यों को समझती हूँ,मुझमें हैं इंसानी आचरण के नियम। करते शुद्ध भ्रष्टता मेरी परमेश्वर के सत्यवचन। जीवन साथी हैं मेरे,परमेश्वर के न्याय और ताड़ना के वचन। परमेश्वर की जाँच को स्वीकारना,देता है सुकून दिल को मेरे। न कोई धोखा,न छल है,रोशनी में रहती हूँ मैं। नेकनीयत,खुले दिल से,अब इंसान की तरह जीती हूँ मैं। गुज़री हूँ इम्तहानों से,देखा है ईश्वर का चेहरा मैंने। उसके वचनों में,पाया है नया जीवन मैंने। अब नेक इंसान बन सकती हूँ मैं। परमेश्वर के प्रेम और उद्धार की शुक्रगुज़ार हूँ मैं!सर्वशक्तिमान परमेश्वर की शुक्रगुज़ार हूँ मैं!

राज्य के नए गीत
परमेश्वर के वचन के भजन
कलीसिया के भजन
सबसे नए भजन
भजन-एलबम्स
परमेश्वर को जानना
परमेश्वर के लिए गवाही
परमेश्वर की प्रशंसा करना
सुसमाचार की गवाहियां
जीवन के अनुभव
मनोदशाएं
शास्त्रीय
पॉप
रॉक
सुसमाचार
देशीय
लोक
विश्व
ए कैप्पेला
समूहगान
अन्य

अभी यहाँ कुछ नहीं हैI एक जोड़ें अभी!

खोज के परिणाम

    विषय
    शांत
    स्फूर्तिदायक
    जोशपूर्ण
    निर्मल
    सम्मानित
    प्रसन्न
    फॉन्ट का आकार
    विषय
    डाउनलोड
    App Store

    इस मुफ्त ऐप को डाउनलोड करें जो बोल धुन के साथ मिला सकता है, जिससे गाना सीखना आसान हो जाता है!

    साझा करें

    ब्राउज