सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

देहधारी परमेश्वर और जो परमेश्वर द्वारा उपयोग में लाए जाते हैं उन लोगों के बीच सारभूत अंतर

संदर्भ के लिए बाइबल के पद:

"मैं तो पानी से तुम्हें मन फिराव का बपतिस्मा देता हूँ, परन्तु जो मेरे बाद आने वाला है, वह मुझ से शक्‍तिशाली है; मैं उसकी जूती उठाने के योग्य नहीं। वह तुम्हें पवित्र आत्मा और आग से बपतिस्मा देगा" (मत्ती 3:11)।

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:

देहधारी परमेश्वर मसीह कहलाता है, तथा मसीह परमेश्वर के आत्मा के द्वारा धारण किया गया देह है। यह देह किसी भी मनुष्य की देह से भिन्न है। यह भिन्नता इसलिए है क्योंकि मसीह मांस तथा खून से बना हुआ नहीं है बल्कि आत्मा का देहधारण है। उसके पास सामान्य मानवता तथा पूर्ण दिव्यता दोनों हैं। उसकी दिव्यता किसी भी मनुष्य द्वारा धारण नहीं की जाती है। उसकी सामान्य मानवता देह में उसकी समस्त सामान्य गतिविधियों को बनाए रखती है, जबकि दिव्यता स्वयं परमेश्वर के कार्य करती है। चाहे यह उसकी मानवता हो या दिव्यता, दोनों स्वर्गिक परमपिता की इच्छा के प्रति समर्पित हैं। मसीह का सार पवित्र आत्मा, अर्थात्, दिव्यता है। इसलिए, उसका सार स्वयं परमेश्वर का है; यह सार उसके स्वयं के कार्य में बाधा उत्पन्न नहीं करेगा, तथा वह संभवतः कोई ऐसा कार्य नहीं कर सकता है जो उसके स्वयं के कार्य को नष्ट करता हो, ना वह ऐसे वचन कहेगा जो उसकी स्वयं की इच्छा के विरूद्ध जाते हों। ...

... स्वयं परमेश्वर में अवज्ञा का तत्व नहीं है; उसका सार अच्छा है। वह समस्त सुन्दरता और अच्छाई की और साथ ही समस्त प्रेम की अभिव्यक्ति है। यहाँ तक कि शरीर में भी, परमेश्वर ऐसा कुछ नहीं करता है जिससे परमपिता परमेश्वर की आज्ञा का उल्लंघन होता हो। यहाँ तक कि अपने जीवन का बलिदान करने की कीमत पर भी, वह सम्पूर्ण हृदय से तैयार रहेगा और कोई अन्य विकल्प नहीं बनाएगा। परमेश्वर के पास आत्मतुष्टि और आत्म-महत्व के, या दंभ या दर्प के कोई तत्व नहीं हैं; उसमें कुटिलता के कोई तत्व नहीं हैं। जो कोई भी अवज्ञा करता है वह शैतान की ओर से आता है; शैतान समस्त कुरूपता तथा दुष्टता का स्रोत है। मनुष्य में शैतान के सदृश विशेषताएँ होने का कारण यह है कि शैतान द्वारा मनुष्य को भ्रष्ट किया गया तथा उस पर कार्य किया गया है। मसीह शैतान द्वारा भ्रष्ट नहीं किया गया है, अतः उसके पास केवल परमेश्वर की विशेषताएँ हैं तथा शैतान की एक भी नहीं है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "स्वर्गिक परमपिता की इच्छा के प्रति आज्ञाकारिता ही मसीह का वास्तविक सार है" से उद्धृत

परमेश्वर के आत्मा द्वारा धारण किया हुआ देह परमेश्वर का अपना देह है। परमेश्वर का आत्मा सर्वोच्च है; वह सर्वशक्तिमान, पवित्र और धर्मी है। तो इसी तरह, उसका देह भी सर्वोच्च, सर्वशक्तिमान, पवित्र और धर्मी है। इस तरह का देह ही केवल वह करने में सक्षम है जो मानवजाति के लिए धर्मी और लाभकारी है, वह जो पवित्र, महान और शक्तिमान है, और ऐसी किसी भी चीज को करने में असमर्थ है जो सत्य या नैतिकता और न्याय का उल्लंघन करती हो, ऐसी किसी चीज को करने में तो बिल्कुल समर्थ नहीं है जो परमेश्वर के आत्मा के साथ विश्वासघात करती हो। परमेश्वर का आत्मा पवित्र है, और इस प्रकार उसका शरीर शैतान द्वारा भ्रष्ट नहीं किए जाने योग्य है; उसका शरीर मनुष्य के शरीर की तुलना में भिन्न सार का है। क्योंकि यह परमेश्‍वर नहीं बल्कि मनुष्य है, जो शैतान द्वारा भ्रष्ट किया जाता है; शैतान संभवतः परमेश्वर के शरीर को भ्रष्ट नहीं कर सका। इस प्रकार, इस तथ्य के बावजूद कि मनुष्य और मसीह एक ही स्थान के भीतर रहते हैं, यह केवल मनुष्य है, जिस पर शैतान द्वारा काबू किया गया है, जिसे उपयोग किया जाता है और फँसाया जाता है। इसके विपरीत, मसीह शैतान की भ्रष्टता के प्रति शाश्वत रूप से अभेद्य है, क्योंकि शैतान कभी भी उच्चतम स्थान तक आरोहण करने में सक्षम नहीं होगा, और कभी भी परमेश्वर के निकट नहीं पहुँच पाएगा। आज, तुम सभी लोगों को यह समझ लेना चाहिए कि यह केवल मानवजाति है, जिसे शैतान द्वारा भ्रष्ट किया गया है, जो मेरे साथ विश्वासघात करती है, और यह कि मसीह के लिए यह समस्या हमेशा अप्रासंगिक रहेगी।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "एक बहुत गंभीर समस्या: विश्वासघात (2)" से उद्धृत

देहधारी परमेश्वर उन लोगों से मौलिक रूप से भिन्न है जो परमेश्वर द्वारा उपयोग किए जाते हैं। देहधारी परमेश्वर दिव्यता का कार्य करने में समर्थ है, जबकि परमेश्वर के द्वारा उपयोग किए जाने वाले लोग समर्थ नहीं हैं। प्रत्येक युग के आरंभ में, नया युग शुरू करने के लिए और मनुष्य को एक नई शुरुआत में लाने के लिए परमेश्वर का आत्मा व्यक्तिगत रूप से बोलता है। जब वह वचन बोलना पूरा कर लेता है, तो यह प्रकट करता है कि परमेश्वर की दिव्यता के भीतर उसका कार्य पूरा हो गया है। उसके बाद, सभी लोग अपने जीवन अनुभव में प्रवेश करने के लिए उन लोगों के पदचिह्नों का अनुसरण करते हैं जो परमेश्वर के द्वारा उपयोग किए जाते हैं।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "देहधारी परमेश्वर और परमेश्वर द्वारा उपयोग किए गए लोगों के बीच महत्वपूर्ण अंतर" से उद्धृत

यद्यपि देहधारी परमेश्वर एक सामान्य मानवीय मन रखता है, किन्तु उसका कार्य मानव विचार के द्वारा अपमिश्रित नहीं होता है; वह इस पूर्वशर्त के अधीन सामान्य मन के साथ मानवता में कार्य को अपने हाथ में लेता है, कि वह मानवता को मन के साथ धारण करता है, न कि सामान्य मानवीय विचारों को प्रयोग में लाने के द्वारा। इस बात पर ध्यान दिए बिना कि उसके देह के विचार कितने उत्कृष्ट हैं, उसके कार्य पर तर्क या सोच का ठप्पा नहीं लगता है। दूसरे शब्दों में, उसके कार्य की कल्पना उसके देह के मन के द्वारा नहीं की जाती है, बल्कि उसकी मानवता में दिव्य कार्य की प्रत्यक्ष अभिव्यक्ति है। उसका समस्त कार्य उसकी वह सेवकाई है जिसे उसे पूरा करने की आवश्यकता है, और इनमें से किसी की भी कल्पना उसके मस्तिष्क द्वारा नहीं की जाती। उदाहरण के लिए, बीमार को चंगा करना, दुष्टात्माओं को निकालना, और सलीब पर चढ़ना उसके मानवीय मन के परिणाम नहीं थे, उन्हें किसी भी मानवीय मन वाले मनुष्य द्वारा प्राप्त नहीं किया जा सकता था। इसी तरह, आज का जीतने का कार्य ऐसी सेवकाई है जिसे देहधारी परमेश्वर के द्वारा किया जाना चाहिए, किन्तु यह किसी मानवीय इच्छा का कार्य नहीं है, यह ऐसा कार्य है जो उसकी दिव्यता को करना चाहिए, ऐसा कार्य जिसे करने में कोई भी दैहिक मानव सक्षम नहीं है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "परमेश्वर द्वारा धारण किये गए देह का सार" से उद्धृत

विभिन्न युगों में, वे सभी लोग जिन्हें परमेश्वर ने उपयोग किया है, सामान्य तरीके से सोचने और तर्क करने में सक्षम हैं। वे सभी मानव आचरण के सिद्धांतों को जानते हैं। उनके पास सामान्य मानव विचार हैं और वे उन सभी चीज़ों से सुसज्जित हैं जो साधारण लोगों के पास होनी चाहिए। उनमें से अधिकतर लोगों के पास असाधारण प्रतिभा और सहज ज्ञान है। उन लोगों पर कार्य करने में, परमेश्वर का आत्मा उनकी प्रतिभाओं का उपयोग करता है, जो कि उनमें परमेश्वर द्वारा दी गई प्रतिभाएँ हैं। परमेश्वर का आत्मा परमेश्वर की सेवा में उनकी शक्तियों का उपयोग करके उनकी प्रतिभाओं से काम लेता है। हालाँकि, परमेश्वर का सार विचार-मुक्त और सोच-मुक्त है, उसमें मनुष्य के इरादों की मिलावट नहीं है और यहाँ तक कि उसमें उन बातों का भी अभाव है जो सामान्य मनुष्य में होते हैं। कहने का अर्थ है कि परमेश्वर मानव आचरण के सिद्धांतों का भी जानकार नहीं है। जब आज का परमेश्वर पृथ्वी पर आता है, तब ऐसा ही होता है। उसका कार्य और उसके वचन मनुष्य के इरादों या मनुष्य के विचार की मिलावट से रहित होते हैं, किन्तु वे पवित्रात्मा के इरादों की प्रत्यक्ष अभिव्यक्ति हैं, और वह सीधे परमेश्वर की ओर से कार्य करता है। इसका अर्थ है कि मनुष्य के इरादों के जरा सा भी मिश्रण के बगैर पवित्रात्मा सीधे बोलता है, अर्थात दिव्यता सीधे कार्य करती है। दूसरे शब्दों में, देहधारी परमेश्वर सीधे दिव्यता का मूर्त रूप है, वह मनुष्य की सोच या विचार से रहित है, और मानव आचरण के सिद्धांतों की कोई समझ नहीं रखता है। यदि केवल दिव्यता कार्य कर रही होती (अर्थात् यदि केवल परमेश्वर स्वयं कार्य कर रहा होता), तो पृथ्वी पर परमेश्वर का कार्य किए जाने का कोई तरीका नहीं होता। इसलिए जब परमेश्वर पृथ्वी पर आता है, उसे थोड़ी सी संख्या में लोग रखने ही पड़ते हैं, जिन्हें वह उस कार्य के साथ मानवता में कार्य करने के लिए उपयोग करता है जिसे परमेश्वर दिव्यता में करता है। दूसरे शब्दों में, वह अपने दिव्य कार्य का समर्थन करने के लिए मनुष्य के कार्य का उपयोग करता है। अन्यथा, दिव्य कार्य के सीधे संपर्क में आने के लिए मनुष्य के पास कोई तरीका नहीं होगा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "देहधारी परमेश्वर और परमेश्वर द्वारा उपयोग किए गए लोगों के बीच महत्वपूर्ण अंतर" से उद्धृत

स्वयं परमेश्वर का कार्य ही पवित्र आत्मा का कार्य है; देहधारी परमेश्वर का कार्य पवित्र आत्मा के कार्य से कम नहीं है। जिन मनुष्यों का उपयोग किया जाता है उनका कार्य भी पवित्र आत्मा का कार्य है। केवल इतना ही है कि परमेश्वर का कार्य पवित्र आत्मा की पूर्ण अभिव्यक्ति है, और उसमें कोई फ़र्क नहीं है, जबकि उपयोग किए जा रहे मनुष्यों का कार्य बहुत सी मानवीय चीज़ों के साथ घुल मिल जाता है, और यह पवित्र आत्मा की प्रत्यक्ष अभिव्यक्ति नहीं है, पूर्ण अभिव्यक्ति की तो बात ही छोड़ो। ...जब पवित्र आत्मा उपयोग किए जा रहे मनुष्यों पर कार्य करता है, तो उनकी प्रतिभा और वास्तविक क्षमता को काम में लाया जाता है और उन्हें बचाकर नहीं रखा जाता है। उनकी समस्त वास्तविक क्षमता को कार्य की सेवा के लिए काम में लाया जाता है। ऐसा कहा जा सकता है कि वह कार्यकारी परिणाम को प्राप्त करने के लिए मनुष्यों के उपलब्ध गुणों का उपयोग करके कार्य करता है। इसके विपरीत, देहधारी देह में किया गया कार्य सीधे तौर पर पवित्रात्मा के कार्य को व्यक्त करने के लिए है और यह मानवीय मन और विचारों के साथ मिश्रित नहीं होता है, और मनुष्यों की प्रतिभाओं, मनुष्य के अनुभव या मनुष्य की स्वाभाविक दशा के द्वारा यह अगम्य है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का कार्य" से उद्धृत

मेरी बोली मेरे अस्तित्व को दर्शाती है, परन्तु जो मैं कहता हूँ वह मनुष्य की पहुँच से परे है। जो मैं कहता हूँ यह वह नहीं है जिसका मनुष्य अनुभव करता है, और यह कोई ऐसी चीज़ नहीं है जिसे मनुष्य देख सकता है, यह कोई ऐसी चीज़ भी नहीं है जिसे मनुष्य स्पर्श कर सकता है, बल्कि यह वह है जो मैं हूँ। कुछ लोग केवल इतना ही स्वीकार करते हैं कि जो मैं संगति करता हूँ यह वह है जिसका मैंने अनुभव किया है, परन्तु वे इस बात को नहीं पहचानते हैं कि यह पवित्रात्मा की प्रत्यक्ष अभिव्यक्ति है। निस्संदेह, जो मैं कहता हूँ वह मैंने अनुभव किया है। यह मैं ही हूँ जिसने छः हजार वर्षों से प्रबंधन का कार्य किया है। मैंने मनुष्यजाति के सृजन के आरम्भ से लेकर अभी तक हर चीज़ का अनुभव किया है; कैसे मैं इसके बारे में बात नहीं कर पाऊँगा? जब मनुष्य की प्रकृति की बात आती है, तो मैंने इसे स्पष्ट रूप से देखा है, और मैंने लम्बे समय से इसका अवलोकन किया है; कैसे मैं इसके बारे में स्पष्ट रूप से बात नहीं कर पाऊँगा? चूँकि मैंने मनुष्य के सार को स्पष्टता से देखा है, इसलिए मैं मनुष्य को ताड़ना देने और उसका न्याय करने के योग्य हूँ, क्योंकि सभी मनुष्य मुझ से ही आए हैं परन्तु उन्हें शैतान के द्वारा भ्रष्ट कर दिया गया है। निस्संदेह, मैं उस कार्य का आँकलन करने के भी योग्य हूँ जिसे मैंने किया है। यद्यपि इस कार्य को मेरी देह के द्वारा नहीं किया जाता है, फिर भी यह पवित्रात्मा की प्रत्यक्ष अभिव्यक्ति है, और यह मेरा स्वरूप है। इसलिए, मैं इसे व्यक्त करने और उस कार्य को करने के योग्य हूँ जो मुझे अवश्य करना चाहिए। जो कुछ मनुष्य कहते हैं यह वही है जिसे उन्होंने अनुभव किया है। यह वही है जो उन्होंने देखा है, जिस तक उनके दिमाग पहुँच सकते हैं और जो उनकी इंद्रियाँ महसूस कर सकती हैं। यह वही है जिसकी वे संगति कर सकते हैं। देहधारी परमेश्वर के देह द्वारा कहे गए वचन पवित्रात्मा की प्रत्यक्ष अभिव्यक्ति हैं और उस कार्य को अभिव्यक्त करते हैं जो पवित्रात्मा के द्वारा किया गया है। देह ने इसे अनुभव किया या देखा नहीं है, परन्तु तब भी उसके अस्तित्व को व्यक्त करता है क्योंकि देह का सार पवित्रात्मा है, और वह पवित्रात्मा के कार्य को व्यक्त करता है। यद्यपि देह इस तक पहुँचने में असमर्थ है, फिर भी यह ऐसा कार्य है जिसे पवित्रात्मा के द्वारा पहले से ही किया गया है। देहधारण के पश्चात्, देह की अभिव्यक्ति के माध्यम से, वह लोगों को परमेश्वर के अस्तित्व को जानने में सक्षम बनाता है और लोगों को परमेश्वर के स्वभाव और उस कार्य को देखने देता है जो उसने किया है। मनुष्य का कार्य लोगों को इस बारे में अधिक स्पष्ट होने में सक्षम बनाता है कि उन्हें किसमें प्रवेश करना चाहिए और उन्हें क्या समझना चाहिए; इसमें लोगों की सत्य को समझने और अनुभव करने के लिए अगुवाई करना शामिल है। मनुष्य का कार्य लोगों को बनाए रखना है; परमेश्वर का कार्य मानवजाति के लिए नए मार्गों को प्रशस्त करना और नए युगों को प्रशस्त करना, और लोगों को परमेश्वर के स्वभाव को जानने में सक्षम बनाते हुए, उनके सामने वह प्रकट करना है जिसे नश्वर मनुष्यों के द्वारा नहीं जाना जाता है। परमेश्वर का कार्य सम्पूर्ण मानवजाति की अगुवाई करना है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का कार्य" से उद्धृत

परमेश्वर के द्वारा उपयोग किया गया व्यक्ति देहधारी परमेश्वर नहीं है, और देहधारी परमेश्वर मनुष्य नहीं है जिसे परमेश्वर द्वारा उपयोग किया गया है; इसमें महत्वपूर्ण अंतर है। ...देहधारी परमेश्वर के वचन एक नया युग आरंभ करते हैं, समस्त मानवजाति का मार्गदर्शन करते हैं, रहस्यों को प्रकट करते हैं, और एक नये युग में मनुष्य को दिशा दिखाते हैं। मनुष्य द्वारा प्राप्त की गई प्रबुद्धता मात्र एक आसान अभ्यास या ज्ञान है। वह समस्त मानवजाति को एक नये युग में मार्गदर्शन नहीं दे सकती है या स्वयं परमेश्वर के रहस्य को प्रकट नहीं कर सकती है। परमेश्वर आखिरकार परमेश्वर है, और मनुष्य मनुष्य ही है। परमेश्वर में परमेश्वर का सार है और मनुष्य में मनुष्य का सार है। यदि मनुष्य परमेश्वर द्वारा कहे गए वचनों को पवित्र आत्मा का साधारण प्रबुद्धता मानता है, और प्रेरितों एवं भविष्यद्वक्ताओं के वचनों को, परमेश्वर के व्यक्तिगत रूप में कहे गये वचन मानता है, तो तब मनुष्य गलत है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" के लिए प्रस्तावना से उद्धृत

सम्बंधित मीडिया