सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

प्रश्न 1: हमारा मानना है कि परमेश्वर की वापसी का अर्थ है कि विश्वासियों को सीधे स्वर्ग के राज्य में उठा लिया जाता है, क्योंकि यह बाइबल में लिखा हुआ है: "तब हम जो जीवित और बचे रहेंगे उनके साथ बादलों पर उठा लिये जाएँगे कि हवा में प्रभु से मिलें; और इस रीति से हम सदा प्रभु के साथ रहेंगे" (1 थिस्सलुनीकियों 4:17)। तुम प्रमाणित कर रहे हो कि प्रभु यीशु वापस आ गया है, तो हम अब पृथ्वी पर क्यों हैं और अभी तक स्वर्गारोहित क्यों नहीं हुए हैं? प्रश्न 3: बाइबल कहती है, "तब हम जो जीवित और बचे रहेंगे उनके साथ बादलों पर उठा लिये जाएँगे कि हवा में प्रभु से मिलें; और इस रीति से हम सदा प्रभु के साथ रहेंगे" (1 थिस्सलुनीकियों 4:17)। हम इसकी व्याख्या कैसे करें? प्रश्न 2: हम लोग अभी तक तय नहीं कर पाए हैं कि परमेश्वर का राज्य धरती पर है या स्वर्ग में। प्रभु यीशु ने "स्वर्ग का राज्य पास में हैं" और "स्वर्ग का राज्य आता है" के बारे में बात की थी। अगर यह "स्वर्ग का राज्य," है तो यह स्वर्ग में होना चाहिये। यह धरती पर कैसे हो सकता है? प्रश्न 1: हमने प्रभु में इतने वर्षों से विश्वास किया है। हालांकि हम प्रभु के लिए प्रवचन दे सकते हैं, कार्य कर सकते हैं, और कष्ट सह सकते हैं, फिर भी हम सदा झूठ बोल सकते हैं, छल कर सकते हैं और धोखा दे सकते हैं। हर दिन, हम अपने बचाव में बोलते हैं। अक्सर, हम घमंडी, हठी, दिखावटी होते हैं तथा दूसरों को नीचा दिखाते रहते हैं। हम देह के बंधन से छूटने में नाकाम, पाप और पश्चाताप की स्थिति में जीते हैं। प्रभु के वचन का अनुभव करना और पालन करना तो दूर, सदा से हम इसी स्थिति में रहे हैं। हमने प्रभु के वचन की किसी भी वास्तविकता को कभी नहीं जिया। हमारी स्थिति में, क्या हम स्वर्ग के राज्य में लाये भी जा सकेंगे?कुछ लोग कहते हैं, हम पाप जैसे भी करें, देह के बंधन में कैसे भी फंसे रहें, प्रभु हमें पापरहित ही देखते हैं। वे पौलुस के कथन के अनुसार चलते हैं: "और यह क्षण भर में, पलक मारते ही अन्तिम तुरही फूँकते ही होगा। क्योंकि तुरही फूँकी जाएगी और मुर्दे अविनाशी दशा में उठाए जाएँगे, और हम बदल जाएँगे" (1 कुरिन्थियों 15:52)। और मान लेते हैं कि जब प्रभु आएंगे, तो वे उसी क्षण हमारी छवि बदल देंगे और हमें स्वर्ग के राज्य में ले आएंगे। कुछ लोग इस तर्क को स्वीकार नहीं कर सकते। वे मानते हैं कि जो लोग विश्वास के कारण उद्धार प्राप्त करते हैं, लेकिन फिर भी निरंतर पाप करते रहते हैं, वे स्वर्ग के राज्य में प्रवेश पाने के योग्य नहीं हैं। यह मुख्य रूप से प्रभु यीशु के वचन पर आधारित है: "जो मुझ से, 'हे प्रभु! हे प्रभु!' कहता है, उनमें से हर एक स्वर्ग के राज्य में प्रवेश न करेगा, परन्तु वही जो मेरे स्वर्गीय पिता की इच्छा पर चलता है" (मत्ती 7:21)। "…इसलिये तुम पवित्र बनो, क्योंकि मैं पवित्र हूँ" (लैव्यव्यवस्था 11:45)। ये दो परस्पर विरोधी विचार हैं, जो कोई भी स्पष्ट रूप से नहीं कह सकता, कृपया हमारे लिए चर्चा करें। प्रश्न 4: आपकी बातों से मुझे एक बात समझ में आई है कि प्रभु की वापसी और आरोहण की हमारी उम्मीदें वाकई इंसानी मान्यताओं और कल्पनाओं की देन हैं। हम पहले ही प्रभु के वचनों को धोखा दे चुके हैं। ख़ैर, अब हम प्रभु की वापसी और आरोहण का इंतज़ार कैसे करें? इस पर थोड़ा और विस्तार से चर्चा कर लें? प्रश्न 1: कि प्रभु यीशु ने हमारे लिए सलीब पर जान दी, उन्होंने हमें पापों से छुड़ाया, और हमारे पापों को क्षमा किया, भले ही हमारा पाप करना जारी है और हमारा अभी शुद्ध होना बाकी है, प्रभु ने हमारे सभी पापों को क्षमा कर हमारी आस्था के ज़रिये हमें न्यायपूर्ण बना दिया है। मुझे लगा कि प्रभु के लिये सबकुछ त्याग करने, यातना सहन करने और कीमत अदा करने की हमारी इच्छा, हमें स्वर्ग के राज्य में प्रवेश दिलाएगी। मुझे लगा, हमारे लिये यही प्रभु की प्रतिज्ञा है। लेकिन कुछ लोगो ने इस पर सवाल उठाया है। उनके अनुसार, चाहे हमने प्रभु के लिए श्रम किया, हम अभी भी पाप करके उन्हें स्वीकार करते हैं, इसलिए हम अभी तक अशुद्ध हैं। उनके अनुसार प्रभु पवित्र हैं, इसलिए अपवित्र लोग उनसे नहीं मिल सकते। मेरा सवाल है: हम लोगों ने प्रभु के लिए अपना सब-कुछ बलिदान कर दिया, क्या हमें स्वर्ग के राज्य में ले जाया जा सकता है? दरअसल हमें इस सवाल का उत्तर नहीं पता, इसलिए हम चाहते हैं कि आप हमें इस बारे में बताएँ। Hindi Christian Video "स्वर्गिक राज्य का मेरा स्वप्न" क्लिप 3 - स्वर्ग का राज्य वास्तव में कहां है? Hindi Christian Movie "तड़प" क्लिप 4 - स्वर्ग का राज्य स्वर्ग में है या धरती पर? Hindi Christian Movie "तड़प" क्लिप 5 - प्रभु ने जो स्थान हमारे लिये तैयार किया है वह कहाँ है? Hindi Christian Video "सुसमाचार दूत" क्लिप 1 - जब प्रभु यीशु ने क्रूस पर, "पूरा हुआ" कहा तो इसका क्या अर्थ था?