सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

अंधकार के उत्पीड़न से होकर फिर उठ खड़ा हुआ पश्चाताप के बिना युवावस्था का समय बिता दिया एक आध्यात्मिक पुनर्जन्म अंततः मैं एक मनुष्य की तरह थोड़ा जीवन व्यतीत करता हूँ मैं फरीसियों के मार्ग पर क्यों चली गई हूँ? मैंने दूसरों के साथ काम करना सीखा नकाब को फाड़ डालो, और नए सिरे से जीवन शुरू करो परमेश्वर का कार्य कितना ज्ञानपूर्ण है! पवित्र आत्मा के कार्य का पालन करना अति महत्वपूर्ण है! सर्वोत्कृष्ट उपहार जो परमेश्वर ने मुझे दिया है एक सच्ची भागीदारी यह सत्य को अभ्यास में लाना है शैतान के जूए को उतार फेंकना ही मुक्त करता है अप्रभावी कार्य का असल कारण एक ईमानदार व्यक्ति होना आसान नहीं है जो कुछ परमेश्वर कहता है वह ही मनुष्य का न्याय है सत्य का अभ्यास करने का अनुभव ईर्ष्या, आध्यात्मिक दीर्घकालीन बीमारी आपदा से बचने का एकमात्र तरीका सत्‍य को सचमुच स्‍वीकार करना क्‍या है? मैंने परमेश्वर के उद्धार का अनुभव किया तथाकथित अच्‍छे व्‍यक्ति का असली चेहरा खोज के पीछे छुपे रहस्य "परमेश्वर के विरुद्ध विद्रोह" का वास्तविक अर्थ मेरे जीवन सिद्धांतों ने मेरा अहित किया मैं सभी का पर्यवेक्षण स्वीकार करने की इच्छुक हूँ परमेश्वर का प्रेम की प्रकृति क्या है? ईमानदारी में बहुत ज्यादा खुशी है मेरे हृदय की गहराई में समाया हुआ रहस्य उत्पीड़न और आपदा ने पनपने में मेरी सहायता की परमेश्वर में विश्वास करने के मार्ग पर बेहतरी के लिए एक मोड़ दुनिया के अंधकार और बुराई के स्रोत के बारे में एक संक्षिप्त वार्ता परमेश्वर का हर वचन उसके स्वभाव की अभिव्यक्ति है मैं मसीह को देखने के अयोग्य हूँ बदली किये जाने पर भावना सही मायने में एक अच्छे व्यक्ति का मानदंड झूठ के पीछे क्या है पवित्रा आत्मा सैद्धांतिक तरीके में काम करता है सेवा में समन्वय का महत्व बचाय जाने के बारे में समझ परमेश्वर के वचनों ने मुझे जगा दिया है जीवन और मृत्यु की एक जंग अहंकार को खत्म करने का मार्ग है अहंकार का कड़वा फल बेड़ियों को तोड़ना प्रकटनों पर मानव प्रकृति का आँकलन नहीं किया जा सकता है कठिनाइयों के बीच परमेश्वर की इच्छा को समझना कलीसिया में कोई विशिष्ट व्यवहार नहीं है व्यक्तिगत प्रतिशोध का स परमेश्वर की सेवा करते समय नई चालाकियाँ मत ढूँढो मैं परमेश्वर को जानने का मार्ग देखता हूँ यह जानना कि मैं फरीसियों के मार्ग पर चलती आई हूँ पतन से पहले की एक घमंडी आत्मा इस प्रकार की सेवा सच में तिरस्करणीय है ओहदा खोने के बाद ... अपनी असलियत की सही पहचान