सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

भ्रम से निकलना

झेंग्ज़ी झेंगझोउ शहर, हेनान प्रांत

दस साल पहले, अपनी अहंकारी प्रकृति के कारण, मैं कभी भी कलीसिया की व्यवस्थाओं का पूरी तरह से पालन करने में सक्षम नहीं थी। अगर मुझे उपयुक्त लगा तो मैं उसका पालन करती थी, लेकिन अगर मुझे नहीं लगा तो मैं चुना करती थी कि उसका पालन करना है या नहीं। इसके परिणामस्वरूप अपने कर्तव्य को पूरा करने के दौरान कार्य की व्यवस्थाओं का गंभीरता से उल्लंघन होता था। मैं अपने खुद के काम करती थी और परमेश्वर के स्वभाव का अपमान करती थी, और बाद में मुझे घर भेज दिया गया था। अनेक वर्षों तक आत्म-चिंतन के बाद, मुझे खुद की प्रकृति का कमोबेश कुछ ज्ञान मिल गया था, लेकिन सत्य के उस पहलू के संदर्भ में जो कि परमेश्वर का सार है, मुझे अभी भी ज्यादा ज्ञान नहीं था। बाद में, कलीसिया ने मेरे सुसमाचार के कार्य की प्रभारी होने की व्यवस्था की, तो मुझे परमेश्वर के बारे में संदेह होना शुरू हो गया: मैं बहुत भ्रष्ट हूँ और मैंने परमेश्वर के स्वभाव का अपमान भी किया था। तो परमेश्वर क्यों मेरा उपयोग करेगा? क्या वह मेरा फायदा उठा रहा है? क्या मेरा फायदा उठाने के बाद मुझे हटा दिया जाएगा? आह! चूँकि कलीसिया ने मुझे एक अवसर दिया था, इसलिए मैं इस पर ध्यान देने जा रही हूँ, भले मुझे एक सेवा-करने-वाली बनना पड़े। उसके बाद से, मैं ऐसी मानसिकता रखते हुए, लेकिन उच्च लक्ष्य—परमेश्वर द्वारा सिद्ध बनाया जाना—को खोजे बिना अपने कर्तव्य को पूरा करती थी।

एक बार, जब मैं आध्यात्मिक प्रार्थना का अभ्यास कर रही थी, तो मैंने परमेश्वर के ये वचन पढ़े: “आज, तू केवल इस बात से संतुष्ट नहीं हो सकता है कि तुझ पर किस प्रकार विजय पायी गयी है, बल्कि तुझे उस पथ पर भी विचार करना होगा जिस पर तू भविष्य में चलेगा। तू सिद्ध बनाया जा सके, इसके लिए तेरे पास आकांक्षाएँ और साहस अवश्य होना चाहिए, और तुझे हमेशा यह नहीं सोचना चाहिए कि तू असमर्थ है। क्या सत्य की भी अपनी पसंदीदा चीज़ें होती हैं? क्या सत्य जानबूझकर लोगों का विरोध कर सकता है? यदि तू सत्य के पीछे पीछे चलता है, तो क्या यह तुझे अभीभूत कर सकता है? यदि तू न्याय के लिए मज़बूती से खड़ा रहता है, तो क्या यह तुझे मार कर नीचे गिरा देगा? यदि यह सचमुच में तेरी आकांक्षा है कि तू जीवन का अनुसरण करे, तो क्या जीवन तुझसे बच कर निकल जाएगा? यदि तेरे पास सत्य नहीं है, तो यह इसलिए नहीं है क्योंकि सत्य तुझे नज़रंदाज़ करता है, बल्कि इसलिए है क्योंकि तू सत्य से दूर रहता है; यदि तू न्याय के लिए मज़बूती से खड़ा नहीं हो सकता है, तो यह इसलिए नहीं है क्योंकि न्याय के साथ कुछ न कुछ गड़बड़ी है, परन्तु इसलिए है क्योंकि तू विश्वास करता है कि यह तथ्यों से अलग है; कई सालों तक जीवन का पीछा करते हुए भी यदि तूने जीवन प्राप्त नहीं किया है, तो यह इसलिए नहीं है क्योंकि जीवन के पास तेरे लिए कोई सद्विचार नहीं है, परन्तु इसलिए है क्योंकि तेरे पास जीवन के लिए कोई सद्विचार नहीं है, और तूने जीवन को स्वयं से दूर कर दिया है…। यदि तू अनुसरण नहीं करता है, तो केवल यह कहा जा सकता है कि तू फालतू कचरा है, तेरे जीवन में साहस बिल्कुल नहीं है, और तेरे पास अंधकार की ताकतों का विरोध करने के लिए हौसला नहीं है। तू बहुत ही ज़्यादा कमज़ोर है! तू शैतान की उन ताकतों से बचने में असमर्थ है जो तुझे जकड़ लेती हैं, तू केवल इस प्रकार का सकुशल और सुरक्षित जीवन जीना और अपनी अज्ञानता में मरना चाहता है। जो तुझे हासिल करना चाहिए वह है विजय पा लिए जाने का तेरा अनुसरण; यह तेरा परम कर्तव्य है। यदि तू इस बात से संतुष्ट है कि तुझ पर विजय पा ली गयी है, तो तू ज्योति की अस्तित्व को दूर हटा देता है” (“वचन देह में प्रकट होता है” में “पतरस के अनुभव: ताड़ना और न्याय का उसका ज्ञान”)। परमेश्वर के वचन के इस अंश को खाने और पीने के बाद, मैं भीतर से काफी द्रवित हो गई थी। मैं देखती थी कि परमेश्वर का प्रयोजन सभी लोगों को परमेश्वर द्वारा उपयोग किए जाने के लिए सिद्ध और उपयुक्त होने की कोशिश करने देना है। इसके बाद मैंने अपना मन बना लिया: मैं अपनी खुद की शंकाओं को हटाने जा रही हूँ तथा मैं अब और नकारात्मक एवं निष्क्रिय नहीं रहूँगी। मैं परमेश्वर के वचनों में विश्वास करूँगी और परमेश्वर द्वारा सिद्ध बनाए जाने का प्रयास करूँगी। लेकिन धीरे—धीरे, क्योंकि मैं अभी भी परमेश्वर की निष्ठा का सार नहीं जानती थी, इसलिए मैंने पुन: परमेश्वर के वचनों पर विश्वास नहीं करना शुरू कर दिया, हमेशा यह सोचती रहती थी कि ये वचन किसी और पर लक्षित हैं, और मुझ जैसे किसी को मात्र थोड़ा सा चैन और प्रोत्साहन दे सकते हैं। मैं याद करती रहती कि कैसे एक बार मैंने परमेश्वर के स्वभाव का अपमान किया था, कि मेरी प्रकृति बहुत भ्रष्ट है, कि अपने कर्तव्य को पूरा करते हुए मैं कभी-कभी अपने भ्रष्ट स्वभाव को प्रकट कर देती थी, कि मैं चाहे कितना भी अनुसरण क्यों न कर लूँ लेकिन मुझे कभी भी सिद्ध नहीं बनाया जा सकता है, और यह सोचती रहती थी कि मुझे बस एक सेवा-करने-वाली बनकर ही संतुष्ट रहना चाहिए। इसी तरह से, मैंने फिर से अनजाने में निष्क्रियता में जीना शुरू कर दिया था। फिर एक दिन, जब मैं परमेश्वर के वचन खा और पी रही थी, तब मैंने परमेश्वर के निम्नलिखत वचनों को पढ़ा: “परमेश्वर का सार विश्वसनीय है-जो वह कहता है उसे करता है और जो कुछ भी वह करता है उसे पूरा करता है” (“मसीह की बातचीतों के अभिलेख” में “देहधारण के महत्व का दूसरा पहलू”)। इस पल, ऐसा लगा कि मेरे भीतर अचानक ही किसी चीज़ ने खटखटाया, मानो कि मेरे दिल में फैली हुई धुंध तत्काल छितरा गई थी। सालों की गलतफ़हमियाँ और शंकाएँ अचानक गायब हो गईं। फिर मैंने परमेश्वर के वचन के उस अंश को पुन: याद किया, जो मैं खाया और पीया करती थी: “यदि यह सचमुच में तेरी आकांक्षा है कि तू जीवन का अनुसरण करे, तो क्या जीवन तुझसे बच कर निकल जाएगा? यदि तेरे पास सत्य नहीं है, तो यह इसलिए नहीं है क्योंकि सत्य तुझे नज़रंदाज़ करता है, बल्कि इसलिए है क्योंकि तू सत्य से दूर रहता है; यदि तू न्याय के लिए मज़बूती से खड़ा नहीं हो सकता है, तो यह इसलिए नहीं है क्योंकि न्याय के साथ कुछ न कुछ गड़बड़ी है, परन्तु इसलिए है क्योंकि तू विश्वास करता है कि यह तथ्यों से अलग है; कई सालों तक जीवन का पीछा करते हुए भी यदि तूने जीवन प्राप्त नहीं किया है, तो यह इसलिए नहीं है क्योंकि जीवन के पास तेरे लिए कोई सद्विचार नहीं है, परन्तु इसलिए है क्योंकि तेरे पास जीवन के लिए कोई सद्विचार नहीं है, और तूने जीवन को स्वयं से दूर कर दिया है…।” इस पल में, मैंने परमेश्वर के वचनों में छिपी हुई विस्मयकारी धार्मिकता और असीमित प्रेम का संचरण महसूस किया, मैंने देखा कि परमेश्वर इतना कुलीन और महान है, जबकि साथ ही मैंने अपनी स्वयं की नीचता, संकीर्णता और अवनति को भी देखा। परमेश्वर निष्ठावान है। यह निस्संदेह और निर्विवाद है। परमेश्वर में एक निष्ठावान सार है, वह विश्वासयोग्य है, और वह अधिकतम संभव सीमा तक मनुष्य को बचाने की कोशिश कर रहा है। जब तक मनुष्य परमेश्वर की अपेक्षानुसार सत्य की और स्वभाव में बदलाव की खोज करता रहेगा, तब तक परमेश्वर मनुष्य को पूर्ण बनाता रहेगा, क्योंकि परमेश्वर जो कहेगा, वह करेगा, और वह जो करेगा वह पूरा होगा! बल्कि, मैं संदेह करती थी कि परमेश्वर मनुष्य की तरह है और जब मेरा उपयोग खत्म हो जाएगा तो वह मेरा त्याग कर देगा। मैं परमेश्वर के वचनों के साथ सत्य के रूप में बिल्कुल भी व्यवहार नहीं करती थी, और इसके अलावा परमेश्वर में सचमुच और सकारात्मक रूप से विश्वास नहीं करती थी। इसके बजाय, मैं सत्य के समक्ष साहस के अभाव के साथ और कायरता से अंधकार के प्रभावों के आगे झुककर, न्याय के लिए खड़े होने में असमर्थ अपने मन में कल्पनाओं और संदेहों में जीया करती थी। उस समय मैं सचमुच महसूस करती थी कि परमेश्वर के सार के ज्ञान का अनुसरण करना बहुत महत्वपूर्ण है। अगर मैंने पूर्व में पहले से ही परमेश्वर के स्वभाव और सार के ज्ञान का अनुसरण करने पर ध्यान दिया होता, तो मैंने शंका में जीते हुए, इतने सारे साल बर्बाद न किए होते, जिससे मेरे स्वयं के जीवन की प्रगति में देरी हो गई।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर, तेरा धन्यवाद! यह तू ही है जिसने मेरी परवाह की और मुझे उन बेड़ियों से छुटकारा पाने के लिए प्रबुद्ध और निर्देशित किया जिन्होंने मुझे इतने सालों से नियंत्रित कर रखा था, जिसने मुझे धुंध से बाहर निकलने दिया। अतीत में, मैं तुझे नहीं जानती थी और अक्सर ग़लतफ़हमी में जीती थी, तेरे वचन पर भरोसा करने में असमर्थ थी और इसे महज लोगों को चैन देने और प्रोत्साहित करने वाली बातों के रूप में मानती थी। मैं तेरे वचन को सत्य और जीवन के रूप में नहीं मानती थी, और इसके अलावा तुझे परमेश्वर के रूप में नहीं मानती थी। परन्तु तूने मुझे बर्दाश्त किया और तू मेरे प्रति धैर्यवान रहा। तुने मुझे प्रबुद्ध किया और मुझ पर अपना प्रकाश चमकाया, ताकि मैं तेरी निष्ठा और धार्मिक सार का थोड़ा सा ज्ञान पा सकूँ। यह निश्चित रूप से मनुष्य के लिए तेरे प्यार का उदाहरण है। हे परमेश्वर! अब से मैं परमेश्वर को जानने के बारे में सत्य में बहुत प्रयास करूँगी, तू मुझसे जो अपेक्षा करता है उसके अनुसार जीऊँगी, तेरे सार के ज्ञान का अनुसरण करूँगी, और शीघ्र ही स्वभाव में बदलाव लाने की कोशिश करूँगी ताकि मैं तेरे द्वारा सिद्ध बनाई जा सकूँ!

सम्बंधित मीडिया