हम परमेश्वर के प्रकटन के लिए बेसब्र सभी साधकों का स्वागत करते हैं!

प्रश्न 5: मुझे यकीन है कि पूरी बाइबल परमेश्वर की प्रेरणा से रची गयी है! पौलुस के वचन गलत नहीं हो सकते! चूंकि आप बाइबल में परमेश्वर के वचनों और मनुष्य के कथनों में फर्क कर पाते हैं, तो फिर बताइए कोई कैसे समझे कि कौन-से वचन परमेश्वर के हैं और कौन-से मनुष्य के?

प्रश्न 5: मुझे यकीन है कि पूरी बाइबल परमेश्वर की प्रेरणा से रची गयी है! पौलुस के वचन गलत नहीं हो सकते! चूंकि आप बाइबल में परमेश्वर के वचनों और मनुष्य के कथनों में फर्क कर पाते हैं, तो फिर बताइए कोई कैसे समझे कि कौन-से वचन परमेश्वर के हैं और कौन-से मनुष्य के?

उत्तर: साधारण समझ वाला कोई भी व्यक्ति जिसने बाइबल पढ़ी हो, वह साफ़ तौर पर समझ सकता है कि बाइबल में कौन-से वचन परमेश्वर के हैं और कौन-से मनुष्य के। बात बस इतनी है कि ज़्यादातर लोग पौलुस के इस कथन से गुमराह हो गये हैं कि "सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र परमेश्‍वर की प्रेरणा से रचा गया है।" दरअसल, पूरी बाइबल में, सिर्फ यहोवा परमेश्वर के वचन ही, नबियों द्वारा पहुंचाये गए परमेश्वर के वचन हैं, प्रभु यीशु के वचन हैं, पवित्र आत्मा के वचन हैं, और प्रकाशित वाक्य में यूहन्ना को बताए गए परमेश्वर के वचन सीधे परमेश्वर से आये हैं और परमेश्वर के वचन हैं। इनके अलावा, मनुष्यों की जीवनियाँ और प्रेरितों के पत्र, सभी मनुष्य के कथन हैं। वे सिर्फ उनके निजी अनुभवों और समझ को दर्शाते हैं, परमेश्वर के वचनों को नहीं, और इससे बढ़कर उन्हें परमेश्वर के वचन नहीं कहा जा सकता! पौलुस के कथन "सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र परमेश्‍वर की प्रेरणा से रचा गया है।" की वजह से, धार्मिक पादरियों और एल्डर्स ने तय कर दिया है कि बाइबल के सभी वचन परमेश्वर के वचन हैं और बाइबल में मनुष्य के कथनों को परमेश्वर के वचन मान लिया है। अपने कार्य और धर्मोपदेशों में, वे सिर्फ मनुष्य के कथनों का उपदेश देने और उनका गुणगान करने पर ध्यान देते हैं, मगर परमेश्वर के वचनों का न तो संवाद करते हैं न उनकी गवाही देते हैं। वे परमेश्वर के वचनों की जगह मनुष्य के कथनों का इस्तेमाल करते हैं, जो कि परमेश्वर के आदेशों का पूरी तरह से त्याग करना है। इसका सार बहुत गंभीर है! इस वजह से पूरी धार्मिक दुनिया, बाइबल में मौजूद मनुष्य के कथनों पर ध्यान देकर और परमेश्वर के वचनों को त्याग कर, सिर्फ मनुष्य के वचनों का पालन करने लगी है और परमेश्वर के वचनों से दूर हो गयी है। क्या यह शैतान का धोखा नहीं है? नतीजा यह है कि जब सर्वशक्तिमान परमेश्वर मनुष्य को बचाने के लिए अंत के दिनों में अपना न्याय का कार्य करने और सत्य को व्यक्त करने आये, तो लोग इन भ्रांतियों के धोखे में, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य को ठुकराते हुए, (उसकी निंदा और विरोध करते हुए) जिद पर अड़कर बाइबल से बंधे रहे, यह धार्मिक फरीसियों के परमेश्वर-विरोध का एक ठोस प्रमाण है और उनके पाखंड का साफ़ संकेत भी है।

"तोड़ डालो अफ़वाहों की ज़ंजीरें" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर

ठोस रंग

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

स्क्रॉल की दिशा

प्रश्न 5: मुझे यकीन है कि पूरी बाइबल परमेश्वर की प्रेरणा से रची गयी है! पौलुस के वचन गलत नहीं हो सकते! चूंकि आप बाइबल में परमेश्वर के वचनों और मनुष्य के कथनों में फर्क कर पाते हैं, तो फिर बताइए कोई कैसे समझे कि कौन-से वचन परमेश्वर के हैं और कौन-से मनुष्य के?

गति

प्रश्न 5: मुझे यकीन है कि पूरी बाइबल परमेश्वर की प्रेरणा से रची गयी है! पौलुस के वचन गलत नहीं हो सकते! चूंकि आप बाइबल में परमेश्वर के वचनों और मनुष्य के कथनों में फर्क कर पाते हैं, तो फिर बताइए कोई कैसे समझे कि कौन-से वचन परमेश्वर के हैं और कौन-से मनुष्य के?